युवाओं का भविष्य खराब कर दिया हिंदू मुसलमान की राजनीति ने , देश का युवा परेशान , युवाओं में लगातार बढ़ रही है बेरोजगारी , वरिष्ठ पत्रकार रविश कुमार ने भी लिखा पोस्ट

एनडीटीवी के वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार आए दिन अपने फेसबुक पेज पर छात्रों की समस्याओं पर पोस्ट लिखते रहते हैं । वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार अर्थव्यवस्था की खराब हालत को लेकर लगातार रिपोर्टिंग की है। लेकिन देश में राजनीति की हवा बदल गई है पिछले कई सालों से राजनीतिक दशा ही बदल गई है । पहले राजनीतिक चुनाव में छात्रों और जनता से संबंधित मुद्दे हुआ करते थे अब जमाना बदल गया है अब पाकिस्तान जनता के लिए मुद्दा बना दिया गया है।

वही जब ऐसे में जब बेरोजगारी लगातार बढ़ती जा रही है और लोगों की करोड़ों नौकरियां जा चुकी हैं। तब ऐसी स्थिति में भारतीय जनता पार्टी रोजगार देने की बात कर रही है और अपने चुनावी भाषण में रोजगार देने की बात कर रही है लेकिन वहीं आरजेडी ने ली यह साफ कर दिया कि बिहार में अगर उनकी सरकार बनती है तो वह युवाओं को 10 लाख नौकरी देने का काम करेंगे। लेकिन जब आरजेडी ने 10 लाख नौकरियां देने का वादा किया।

तो भारतीय जनता पार्टी ने जवाब में देने के लिए 19 लाख रोजगार देने का ऐलान कर दिया। लेकिन सोचने वाली बात यह भी है कि पूरे भारत में बेरोजगारी कितनी बढ़ती हुई जा रही है युवाओं को नौकरी ही नहीं है। क्योंकि जब नौकरी और जनता को अपनी समस्या कहने का वक्त नेताओं से आता है तब जनता के सामने हिंदू मुस्लिम की राजनीति आ जाती है और साथ ही पाकिस्तान को भी साथ में ले लिया जाता है।

लेकिन इस हिंदू मुस्लिम की राजनीति में भारत के युवाओं का भविष्य खराब हो रहा है। आपने देखा ही होगा जब चुनाव आते हैं तब भारतीय जनता पार्टी के नेता किस प्रकार के बयान देते हैं और ऐसे ढेरों बयान सोशल मीडिया पर मौजूद हैं आप यूट्यूब पर जाकर देख सकते हैं कि जब जब चुनाव होने जाते हैं तब राजनेता किस प्रकार के बयान देते हैं और जनता की वाहवाही को बटोरते है । लेकिन सबसे बड़ी बात यह है इन्हें एक संस्था का भी बहुत बड़ा साथ मिलता है।

और वह है भारत का मुख्य धारा का मीडिया जो आजकल गोदी मीडिया के नाम से जाना जाता है जिस तरीके के नेता जब बयान देते हैं तब गोदी मीडिया के एंकर भी अपने ऐसे ही कार्यक्रम करने में लग जाते हैं। लेकिन देश में युवाओं का क्या हाल है गरीब जनता का क्या हाल है देश में मजदूर भी रहते हैं उनका क्या हाल है यह टीवी पर बिल्कुल दिखाया ही नहीं जाता है। और आप जानते ही हैं कि मीडिया में किस प्रकार की खबरें चलाकर लोगों के दिमाग को बदला जाता है।

अब चाहे वह सरकारी भर्ती का कोई मुद्दा हो लेकिन किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता। न जाने कितने युवाओं ने नौकरी के लिए आवेदन करें भर्तियां निकली लेकिन उसके बाद होता क्या है की भर्तियों पर रोक लग जाती है देश के युवा इन मुद्दों पर सवाल उठाते रहते हैं प्रदर्शन भी करते रहते हैं लेकिन इन युवाओं की आवाज ना तो सरकार सुनती है और ना ही मुख्यधारा का मीडिया जिसकी यह जिम्मेदारी होती है कि वह इन छात्रों की आवाज को सुने।

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने रेलवे की एक भर्ती को लेकर पोस्ट किया वह भर्ती साल 2018 में निकली थी जिसके लिए युवाओं ने न जाने कितने आवेदन की लेकिन हुआ क्या उस भर्ती की आज भी नियुक्ति प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई। वक्त बदलता गया सरकारें  दोबारा से आती गई लेकिन भारत का युवा के युवा की हालत और खराब हो गयी  वह क्या डेढ़ साल बाद भी युवा उस भर्ती के जॉइनिंग और ट्रेनिंग के लिए चक्कर लगाते रहे।

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने अर्थव्यवस्था को लेकर भी सवाल उठाए कि भारत में हिंदू मुस्लिम की राजनीति ने भारत की अर्थव्यवस्था को भी लुढ़का  दिया है अर्थव्यवस्था भारत की लगातार गिरती जा रही है और हमारे युवाओं का भविष्य भी इन नेताओं की हिंदू मुस्लिम की राजनीति में खराब हो रहा है बल्कि ऐसा कहिए इन हिंदू मुस्लिम की राजनीति में हमारे देश के युवाओं की हालत बिल्कुल खराब कर दी है।

विपक्ष के लोग अर्थव्यवस्था को लेकर लगातार सरकार पर सवाल उठाते रहे हैं वरिष्ठ पत्रकार भी देश की गिरती अर्थव्यवस्था पर सवाल उठाते रहे हैं और छात्र अपनी भारतीयों को लेकर और अपनी समस्याओं को लेकर आवाज उठाते रहे हैं लेकिन सरकार ने इन छात्रों की विपक्ष की एक ना सुनी और इनकी आवाजों को मीडिया ने भी कोई साथ नहीं दिया मीडिया ने अपने अलग ही पसंदीदा कार्यक्रमों को प्रसारित किया।

युवाओं

 

जब जब विपक्ष के प्रवक्ताओं ने गिरती अर्थ व्यवस्था पर सवाल उठाया है तब तक भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता ने उन्हें देशद्रोही तक करार दे दिया गया है। लेकिन इतना सुनने के बाद भी विपक्ष के प्रवक्ता अपने इसी मुद्दे पर कायम रहे। लेकिन नेताओं का राजनीति करके तो काम बनता रहा लेकिन युवाओं का हाल पहले से ज्यादा और खराब होने लगा। और इसी हिंदू मुस्लिम की राजनीति ने देश के युवा का भविष्य खराब कर दिया है।