राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ने किया गाय के गोबर से चमत्कार , गाय के गोबर की बनाई चिप , दावा किया मोबाइल रेडिएशन कम होगा

गाय

अगर देखा जाए तो पिछले 6 सालों से गाय को लेकर तमाम तरीके के दावे किए जा रहे हैं लेकिन जिसका कोई प्रमाण नहीं है जब देश में कोरोनावायरस आया था तब भी गाय के गोमूत्र और गोबर से कोरोनावायरस को भगाने के लिए इस्तेमाल करने की सलाह दे रहे थे। और इसका प्रसारण गोदी मीडिया के चैनलों पर भी हुआ था। आज जब भारत में कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है तब वह दावा करने वाले दिखाई नहीं दे रहे हैं।

गाय

लेकिन एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के अध्यक्ष बल्लभ भाई कथीरिया की कहते हुए नजर आए की अगर इस चिप को साथ रखने से मोबाइल के रेडिएशन काफी कम हो जाते हैं और बीमारी से बचना है तो आगे आने वाले समय में यह बहुत काम आएगा। लेकिन जिस रेडिएशन को कम करने के लिए इंजीनियरों के पसीने छूट गए वहां राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ने बड़ी आसानी से गाय के गोबर से एक तैयार कर दी और उन्होंने दावा भी यह कर दिया कि

हमने देखा है कि मोबाइल का रेडिएशन काफी हद तक कम होता दिखाई दे रहा है। लेकिन यह बात भी कुछ ऐसी ही है जैसे हमारे देश में कोरोनावायरस काल में कुछ लोग आपदा को अवसर में बदलने के लिए कोरोना की दवाई ले आए थे और उसे वह अपने आप वैक्सीन होने का दावा भी कर रहे थे। और टीवी चैनलों पर मना करने के बाद भी विज्ञापनों को प्रसारित किया गया और मीडिया चैनल फायदा भी बताने लगे।

लेकिन सोचने वाली बात यह है कि यह चिप बनी कैसे इसमें क्या क्या इस्तेमाल किया गया और यह मोबाइल रेडिएशन को कैसे कम कर रही है इसका कोई प्रमाण नहीं है बस एक दावा किया जा रहा है कि उन्होंने देखा है कि मोबाइल रेडिएशन काफी हद तक कम हो रहा है। अगर चिप की बात करें तो चिप तो 2000 के नोट में भी दावा किया जा रहा था। उन्होंने और भी काफी बातें की लेकिन हम उन बातों को शामिल नहीं कर रहे हैं। सुनिए और देखिए वीडियो