क्रोनोलॉजी को समझिए , तो क्या इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र को संबोधित करते वक्त चीन का नाम नहीं लेते…..पढ़े

15 जून को भारत की सीमा पर हमारे 20 जवान शहीद हो जाते हैं। लेकिन इसके बाद देश की जनता इन 20 जवानों की शहादत को लेकर सरकार इस सवाल करती हैं। तो गोदी मीडिया के एंकर पहले तो यह समझाते हैं कि यह सरकार पर सवाल नहीं बनता है यह सेना पर सवाल बनता है। इसके बाद गोदी मीडिया के एंकर एक वीडियो के जरिए यह बताने की कोशिश करते हैं। कि चीन के सैनिक भी मा रे गए हैं। लेकिन बाद में अल्ट न्यूज ने खुलासा किया तो

इस वीडियो का वर्तमान के समय से कोई लेना-देना नहीं था। लेकिन इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई बार राष्ट्र को संबोधित किया लेकिन उस संबोधन में चीन का नाम बिल्कुल ही नहीं दिया। वहीं कांग्रेस के प्रवक्ता सुरजेवाला उन्होंने एक ट्वीट किया है और उस ट्वीट के जरिए यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि मोदी सरकार गुपचुप तरीके से चाइनीस बैंकों से कर्ज ले रही है। उन्होंने आगे भी कहा की चाइनीज ऐप्स को बैन करने से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वाहवाही हुई।

लेकिन जनसत्ता के 1 आर्टिकल में छपी खबर के मुताबिक , 15 जून को भारत चीन सीमा पर हमारे 20 जवान शहीद हुए थे । लेकिन इसके बाद 19 जून को लगभग 750 मिलियन डॉलर यानी लगभग 5521 करोड रुपए के कर्ज के तौर पर एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जाते हैं। और यह हस्ताक्षर जिसके साथ हुए हैं वह AIIB यानी एशियन इन्फ्राट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक है । अब अगर आप गूगल पर AIIB सर्च करते हैं तो आपको यह जानकारी मिल जाएगी कि AIIB चीन के बीजिंग में स्थित है

लेकिन इस स्थिति में ज़ी न्यूज़ अपनी डिबेट में लगातार कांग्रेस से सवाल पूछ रहा है। और इसी मुद्दे को लेकर राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया। राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि सीमा में कोई नहीं घुसा है । राहुल गांधी ने ट्वीट के जरिए आगे भी कहा चीन में स्थित बैंक से मोदी सरकार ने कर्जा भी ले लिया देखिए उनका ट्वीट।