देखें : पाकिस्तानी संसद में वोटिंग-वोटिंग के नारों को इन मीडिया के एंकरों ने मोदी-मोदी के नारे बताकर कर दिए कार्यक्रम , विस्तार से पढ़े

28 अक्टूबर को गोदी मीडिया के कार्यक्रमों में यह खबर चलाई गई कि पाकिस्तानी संसद में मोदी मोदी के नारे लगे थे और यह खबर बड़े-बड़े गोदी मीडिया के चैनलों में प्रसारित की गई थी यहां तक इंडिया टीवी पर भी रजत शर्मा ने अपने कार्यक्रम में इस खबर को दिखाया था और यह साबित किया था कि पाकिस्तानी संसद में मोदी मोदी के नारे लगे थे उस वीडियो को भी प्रसारित किया गया था। और लगातार वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।

इसके बाद कई और न्यूज़ चैनलों ने भी इसी तरीके के दावे की न्यूज़ नेशन के एंकर दीपक चौरसिया ने भी यही दावा कर डाला कि पाकिस्तानी संसद में मोदी मोदी के नारे लगे हैं लेकिन क्या इन्होंने ध्यान से सुना था कि किस प्रकार के पाकिस्तानी संसद में नारे लगे हैं क्या इन्हें मोदी मोदी ही उस वीडियो में दिखाई दिया या सुनाई दिया। या मोदी मोदी को ध्यान में रखकर उस वीडियो को इनाम करो ने देखा।

क्योंकि जाहिर सी बात है अगर आप किसी को अपने दिमाग में रखकर अगर कोई वीडियो या कोई ऑडियो सुनते हैं तब आपके दिमाग में वही चीज बार बार घूमती है। वीडियो में देखेंगे तो आपको शब्द स्पष्ट रूप से सुनाई दे रहे हैं कि नारे किस बात को लेकर लग रहे हैं। इन गोदी मीडिया के एंकरों को कार्यक्रम करने के बाद फिर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने भी इनके वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर करने लगे।

और फिर क्या था वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा और गोदी मीडिया के एंकर और भारतीय जनता पार्टी के नेता इस वीडियो को शेयर करने लगे और दावा किया जाने लगा कि पाकिस्तानी संसद में मोदी मोदी के नारे लगे थे कई भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने इस वीडियो को जमकर शेयर किया है। फिर यही नहीं टाइम्स नाउ ने भी यही दावा किया कि पाकिस्तानी संसद में मोदी मोदी के नारे लगे।

टाइम्स नाउ ने भी इस बात का ट्वीट किया और टाइम सुनाओ ने भी यही दावा किया की पाकिस्तानी संसद में मोदी मोदी के नारे लग रहे थे ब्रेकिंग न्यूज़ बनाया गया इसी के साथ-साथ TV9 भारतवर्ष में भी यही ट्वीट किया कि पाकिस्तानी संसद में मोदी मोदी के नारे लग रहे थे और भी कई न्यूज़ चैनल है जिन्होंने ऐसे ही दावे किए कि पाकिस्तानी संसद में मोदी मोदी के नारे लगाए जा रहे थे और फिर इसके बाद वीडियो को भी पेश किया गया।

लेकिन यही नहीं इंडिया टीवी में इस बात को लेकर एक कार्यक्रम किया गया और उसमें इसी बात को लेकर दावा किया गया रजत शर्मा ने अपने कार्यक्रम के दौरान कहा कि आखिरकार पाकिस्तानी संसद में मोदी मोदी के नारे क्यों लगे और लगे तो किस बात को लेकर लगे ऐसी क्या बात थी जो पाकिस्तानी संसद में नारे लगे। उन्होंने अपने कार्यक्रम के दौरान यह भी बताया गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पाकिस्तानी संसद ने कई बार पहले भी याद किया गया।

लेकिन जब यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था तब किसी ने वीडियो को ध्यान से नहीं सुना क्योंकि मीडिया भी तो जिम्मेदारी होती है अगर कोई वायरल वीडियो होता है तो उसकी जांच पड़ताल करना कि इस वीडियो के अंदर क्या छुपा हुआ है और आखिर क्या चल रहा है और लेकिन यह गोदी मीडिया के अधिकारी जो यह दावा कर रही है कि पाकिस्तान की संसद में मोदी मोदी के नारे लग रहे हैं तो क्या इन्होंने इस वीडियो को ध्यान से सुना।

लेकिन जब इसकी पड़ताल झूठ सच पकड़ने वाली वेबसाइट अल्ट न्यूज ने की न्यूज़ अपने खुलासे में बताया कि पाकिस्तान की संसद में जो कार्यक्रम चल रहा था और जिसको लेकर मीडिया में यह चलाया जा रहा है कि पाकिस्तान की संसद में मोदी मोदी के नारे लगे थे लेकिन अल्ट न्यूज ने अपनी पड़ताल में बताया 26 अक्टूबर को एक असेंबली बहस  का यह वीडियो है लेकिन जिस तरीके से इंडिया टीवी ने इस पर कार्यक्रम बनाया वह एकदम उल्टा था।

न्यूज की वीडियो  में भी अगर आप गौर से देखेंगे तो आपको वोटिंग वोटिंग सुनाई देगा और यही था वहां बाकी लोग जिस समय बहस चल रही थी वह वोटिंग वोटिंग कह रहे थे और वास्तव में वोटिंग वोटिंग के नारे ही लगाए गए थे ना कि मोदी मोदी के नारे। लेकिन जो वायरल वीडियो हो रहा था और जिस में वोटिंग वोटिंग के नारे लगाए जा रहे थे उसे गोदी मीडिया के एंकरों उल्टा करके मोदी मोदी के नारे दिखाकर बड़े-बड़े कार्यक्रम प्रसारित कर दिए गए। और इसका अल्ट न्यूज ने भी खुलासा किया है।

पाकिस्तानी संसद

लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि अल्ट न्यूज के खुलासे के बाद भी यह साबित हो गया है कि इस में वोटिंग वोटिंग के नारे लगे हैं और साफ सुनाई दे रहा है कि वोटिंग वोटिंग वहां लोग चिल्ला रहे हैं लेकिन इन एंकरों कार्यक्रम अब भी सोशल मीडिया पर अपलोड हैं। और एक बार फिर यह साबित हो गया इस सत्ता  की वाहवाही में यह क्या झूठ को सच करके दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन क्या इस वीडियो को लेकर किसी मीडिया चैनल ने जिम्मेदारी से नहीं देखा कि इसमें क्या सुनाई दे रहा है