बड़ी ख़बर : मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बीजेपी आईटी सेल पर लिया बड़ा एक्शन , अभद्र टिप्पणी करने के आरोप में ….. पढ़े पूरी ख़बर

बीजेपी आईटी सेल को तो आप जानते ही होंगे सोशल मीडिया पर इस तरीके की नफरत फैलाई जाती है इस तरीके से झूठी खबरों को चुनावी फायदा लेने के लिए कैसे सोशल मीडिया पर फैलाई जाती हैं ऐसी कई खबरें फैक्ट चेक में गलत साबित हुए हैं जो कि बीजेपी आईटी सेल के मुखिया अमित मालवीय ने शेयर की थी लेकिन अब भी लगातार ऐसी तस्वीरें हमारे बीच भी शेयर की जाती हैं।

बीजेपी आईटी सेल सोशल मीडिया नेटवर्क पर हर रोज ऐसी टिप्पणियां शेयर की जाती हैं जिससे एक राजनीतिक पार्टी को फायदा हो सके। ऐसे ग्राफिक्स और ऐसी तस्वीरें पोस्ट की जाती हैं जिनका वर्तमान के समय में कोई लेना देना नहीं होता है और वर्तमान के समय को जोड़कर उन तस्वीरों के साथ दिखाया जाता है उन पर बहुत-बहुत लंबी टिप्पणियां की जाती हैं भविष्यवाणी की जाती हैं कि आपके साथ ऐसा हो सकता है।

लेकिन बीजेपी आईटी सेल में अब भाषा का भी स्तर गिरता हुआ जा रहा है । और लगातार विपक्ष को लेकर झूठ का प्रचार प्रसार किया जाता है एजेंडे चलाए जाते हैं पाकिस्तान हिंदू विरोधी । लेकिन अभी तक तो था यह सिर्फ विपक्षी पार्टियों पर ही चलाते थे जब से महाराष्ट्र में शिवसेना में गठबंधन करके सरकार बनाई है तब से शिवसेना को भी इन्होंने टारगेट करना शुरू कर दिया लेकिन यहां पाशा उल्टा पड़ गया।

बीजेपी आईटी सेल

 

आपने देखा होगा जब सुशांत सिंह राजपूत का मामला सोशल मीडिया में आया था तब किस तरीके की खबरें सोशल मीडिया में और गोदी मीडिया में चलाई गई थी हालांकि गोदी मीडिया के एंकर उन खबरों को सच साबित करने की कोशिश कर रहे थे सबसे ज्यादा रिपब्लिक टीवी ने सुशांत सिंह राजपूत की खबरों पर वाहियात खबरों का प्रसारण किया था। लेकिन गोदी मीडिया ने तो जो खबरें चलाई ।

लेकिन इसके बाद बीजेपी आईटी सेल ने भी सुशांत सिंह राजपूत को लेकर ना जाने कौन-कौन सी सोशल मीडिया पर खबरें फैला आएंगे और जिसके बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उनके बेटे आदित्य ठाकरे को टारगेट किया गया। सोशल मीडिया पर लगातार मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उनके बेटे आदित्य ठाकरे के खिलाफ भ्रामक खबरें बीजेपी आईटी सेल द्वारा फैलाई गई।

 

लेकिन जब सोशल मीडिया पर लगातार भाषा का स्तर गिरता गया तो महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को बीजेपी आईटी सेल के खिलाफ एक ठोस कदम उठाना पड़ा । और अब एक व्यक्ति ने क्या किया ट्विटर पर आदित्य ठाकरे और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ आपत्तिजनक ट्वीट कर दिया। और इस ट्वीट को लेकर महाराष्ट्र पुलिस ने आपत्तिजनक ट्वीट करने वाले शख्स को गिरफ्तार कर लिया है।

जिस व्यक्ति को महाराष्ट्र पुलिस ने गिरफ्तार किया है उस व्यक्ति का नाम समीत ठक्कर है जो कि बीजेपी आईटी सेल के लिए काम करता है। ट्विटर पर समीत ठक्कर की प्रोफाइल चेक करने के बाद पता चला कि ट्विटर पर इस व्यक्ति के 58 हजार से ज्यादा फॉलोअर हैं और एक सबसे बड़ी बात प्रधानमंत्री नरेंद्र इस शख्स को फॉलो करते हैं। लेकिन जरा सोचने वाली बात है कि जिस शख्स को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फॉलो करते है ।

वह एक महाराष्ट्र राज्य के मुख्यमंत्री को इस तरीके की भाषा का इस्तेमाल करता है वह भी सोशल मीडिया पर। आपत्तिजनक टिप्पणी करने के बाद महाराष्ट्र पुलिस ने इस शख्स को नागपुर से गिरफ्तार कर लिया है। व्यक्ति ने अपने ट्विटर अकाउंट पर अपनी फोटो को नहीं लगाया है 2014 से यह व्यक्ति ट्विटर पर मौजूद है और लगातार पोस्ट सोशल मीडिया पर की है। प्रोफाइल फोटो और कवर फोटो पर धार्मिक तस्वीरों को लगाया गया है।

लेकिन जैसे ही इस शख्स को नागपुर से महाराष्ट्र पुलिस ने गिरफ्तार किया । इसके बाद बीजेपी के कई नेता इस व्यक्ति की सपोर्ट में आए यहां तक की नागरिकता संशोधन कानून के समय जब शाहीन बाग में प्रदर्शन हो रहा था उस वक्त विवादित बयान देने वाले कपिल मिश्रा , और उत्तर प्रदेश से बीजेपी विधायक दिनेश चौधरी और भी कई बीजेपी नेताओं ने समित ठक्कर को रिलीज करने का हैशटैग चला डाला

लेकिन सोचने वाली बात है कि जिस व्यक्ति को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उनके बेटे पर आपत्तिजनक ट्वीट करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है उस व्यक्ति को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ट्विटर पर फॉलो करते हैं। उसके बाद जब इस शख्स को गिरफ्तार किया जाता है तो बीजेपी के नेता जिन्होंने आपत्तिजनक पहले बयानों में चर्चित रह चुके हैं वह इस व्यक्ति की सपोर्ट में आ गए।