किसानों के प्रदर्शन करने से कोरोना फैलेगा , और हैदराबाद में रैली में ये इकट्ठे लोग क्या वैक्सीन बनाने का काम कर रहे हैं

किसान प्रदर्शन कर रहे हैं तो उन्हें सलाह दी जा रही है कि कोरोनावायरस खेलेगा लेकिन जब चुनाव होते हैं रैलियां होती हैं तब सरकार कोरोनावायरस को भूल जाती है हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी एक बार टीवी पर आकर कह कर गए थे कि जब तक दवाई नहीं तब तक खिलाई नहीं लेकिन जब तक दवाई नहीं जब तक ढिलाई नहीं यह बात तो हमें फोन पर भी सुनाई देता है कि जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नही । लेकिन यहां दवाई से पहले ही भीड़ लगाई जा रही है

हैदराबाद में रैली की जा रही है और रोड शो के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लोगों के हुजूम के साथ सड़कों पर नजर आ रहे हैं। सोचने वाली बात है यह जो लोग इकट्ठे हैं अब इनसे कोरोनावायरस नहीं फैल रहा है क्या यह सब वैक्सीन का घूंट लेकर सड़क पर उतरे हैं जो आपस में एक दूसरे से संपर्क में आएंगे तो कोरोनावायरस नहीं फैलेगा  सोचिए अगर इस भीड़ में कोई भी कोरोनावायरस संक्रमित व्यक्ति है तो उसके संपर्क में जितने लोग आएंगे क्या वह कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं होंगे।

किसानों के लिए तो ज्ञान दिया जा रहा है कि किसान अगर इकट्ठे होंगे तो कोरोनावायरस फैल सकता है लेकिन अगर यह बीजेपी समर्थक रोड पर इकट्ठे होंगे तो कोरोनावायरस नहीं मिलेगा सोशल मीडिया पर यह भी तंज कसा जा रहा है कि यह जो बीजेपी के समर्थक हैं सब कोरोनावायरस की वैक्सीन का घूंट मार कर आए हैं। की वजह से यह सड़कों पर घूम रहे हैं । तो क्या इनके रोड शो से कोरोनावायरस का कोई डर नहीं। क्या सिर्फ कोरोनावायरस किसानों के लिए ही है।

आपने देखा होगा जब बिहार में चुनाव हुए थे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा था कि जब तक दवाई नहीं तब तक कोई ढिलाई नहीं लेकिन उसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद ही रहने भी करने लगे वह खुद भूल गए कि हमने क्या कहा था जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं। और खूब जोरों शोरों से लोगों में खट्टा करके रैली की जा रही है। और किसानों को ज्ञान दिया जा रहा है कि आप अगर इकट्ठे  होंगे तब कोरोनावायरस फैल सकता है