इधर लोग बिहार चुनाव में बिजी रहे और उधर रिपब्लिक टीवी के असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया , पढ़े

रिपब्लिक

रिपब्लिक टीवी की मुसीबतें कम होती नहीं दिख रही हैं पहले पुलिस ने रिपब्लिक टीवी के चीखने चिल्लाने वाले एंकर अर्नब गोस्वामी को गिरफ्तार किया। और फिर जिस तरीके से टीवी पर बैठकर रिपब्लिक टीवी का एंकर यह दावा किया करता था कि रिपब्लिक टीवी नंबर वन है और रिपब्लिक टीवी को इतने लोग देखते हैं इतना लोकप्रिय होता जा रहा है। ऐसे दावे रिपब्लिक टीवी पर बैठकर एंकर किया करते थे लेकिन जब हकीकत सामने आई तो

कुछ और ही नजारा सामने आया पहले तो अर्नव गोस्वामी को दो हजार अट्ठारह के एक केस में गिरफ्तार किया गया और उसके बाद अब बड़ी खबर यह है कि फर्जी टीआरपी केस में रिपब्लिक टीवी के वाइस प्रेसिडेंट को गिरफ्तार किया गया है 13 नवंबर तक वह जेल की सलाखों में रहेंगे। आपको बता दें जब फर्जी टीआरपी के जब सामने आया था तो उसमें रिपब्लिक टीवी का नाम आया था जिसमें रिपब्लिक टीवी पर अक्सर सुना जाता है कि वह चैनल नंबर वन है

इस फर्जी टीआरपी केस में अब तक 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले भी मुंबई पुलिस इस केस में 11 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी थी लेकिन अब रिपब्लिक टीवी के वाइस प्रेसिडेंट को गिरफ्तार कर लिया गया है। अपने रिपब्लिक टीवी के कार्यक्रमों के वह इससे देखे होंगे जिसमें किसी एक व्यक्ति विशेष के लिए चुनौती दी जाती है और ऐसे कई वीडियो सोशल मीडिया पर मौजूद हैं जब रिपब्लिक टीवी के एंकर द्वारा किसी एक व्यक्ति को चुनौती दी जाती।

और सबसे बड़ी खबर यह है कि जिनके घरों में टीआरपी के लिए बैरोमीटर लगाए गए थे उनमें से भी कई लोगों के बयान दर्ज पुलिस ने कर लिए हैं क्योंकि हो सकता है मुकदमे के दौरान वह कोर्ट में अपने बयान से पलट ना जाएं। यह भी खुलासा हुआ है कि कुछ चैनलों को देखने के लिए बड़ा मोटा पैसा दिया जाता था चाहे वह चैनल को देखने में दिलचस्पी हो या ना हो बस उस चैनल को देखते रहना चाहिए टीआरपी बढ़ाने के लिए।

और ऐसा करने के लिए जिस घर में यह बैरोमीटर लगाए जाते थे उसे मोटी रकम दी जाती थी ताकि इस चैनल को ज्यादा से ज्यादा देखा जाए और टीआरपी ज्यादा से ज्यादा चैनल बटोल सके और फिर चैनलों द्वारा मोटी कमाई की जा सके। और कुछ चैनल अपने आपको नंबर वन बताते हैं कहते हैं कि हमारा चैनल नंबर वन बन गया है हमने जनता की खबरों को टीवी पर सबसे पहले दिखाया है हमने जनता की समस्याओं को सबसे पहले दिखाया है।

लेकिन आजकल गोदी मीडिया किस तरीके की खबरों को प्रसारित व प्रचारित कर रहा है किस एंगल से खबरों को कवर किया जा रहा है यह सब सोचने और समझने वाली बात है ऐसी क्या जरूरत थी टीआरपी बढ़ाने के लिए जो मीटर लगाए गए थे उनसे चैनल चलबाने की क्या जरूरत थी जब खुद में आप एक नंबर वन साबित करने की कोशिश कर रहे हैं तो मीटरों वाले घरों में चैनल चलवाने की आपको क्या जरूरत थी। और जब यह चैनल लगातार यह दावा कर रहे हैं।

कि हमारा चैनल नंबर वन बन गया है और जनता की खबरों को सबसे ज्यादा दिखाया गया है जनता की समस्याओं को सबसे ज्यादा दिखाया गया है तब इनको टीआरपी वाले मीटर उसे यह सब करने की क्या जरूरत थी। क्यों उन लोगों को बे फालतू चैनल देखने के लिए पैसे दिए जाते थे।