बड़ी खबर : यूपी के बलरामपुर में दलित छात्रा के साथ हुई हाथरस जैसी वारदात , छात्रा की इलाज के दौरान हो गई मृत्यु

बलरामपुर

हाथरस की उस बेटी के अंतिम संस्कार के 24 घंटे बाद उत्तर प्रदेश से एक वैसी ही खबर हमारे सामने आ गई इससे स्पष्ट होता है कि उत्तर प्रदेश में बिल्कुल जंगलराज है। इस बलरामपुर की बेटी के साथ भी हाथरस कि उस बेटी जैसा ही हुआ। उन लड़कों ने दलित छात्रा के पैर और कमर को तो ड़ दिया। बलरामपुर की इस बेटी के साथ यह हुआ उसकी उम्र 22 साल की है। और वह एक विक्रम कॉलेज में बीकॉम में एडमिशन लेने गई थी

और उसको घर लौटते हुए शाम हो गई। और फिर बलरामपुर की बेटी के साथ भी वही हुआ जो हाथरस की बेटी के साथ हुआ। क्या इसको देखकर ऐसा नहीं लगता कि उत्तर प्रदेश में वाकई जंगलराज हैं। 2017 से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तो बड़ी-बड़ी बातें किया करते थे कि उत्तर प्रदेश में मां बेटियां सलामत नहीं है घरों से निकलने से डरती हैं स्कूल कॉलेज जाने से डरती हैं। और उस वक्त एक नारा भी दिया गया था कि बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ।

लेकिन आज तो पूरे भारत में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और उत्तर प्रदेश में भी भारतीय जनता पार्टी की सरकार है तो वह आज उन बेटियों के साथ ऐसा क्यों हो रहा है। अगर आप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2017 के पहले के भाषण यूट्यूब पर सर्च करोगे तो आपको महिला सुरक्षा को लेकर बड़ी बड़ी बातें सुनने को मिलेंगी। लेकिन अगर आप गूगल पर सर्च करेंगे उत्तर प्रदेश की मां बेटियों को लेकर तो आपको ढेरों दुष्कर्म की खबरें मिल जाएंगे हर रोज उत्तर प्रदेश की खबरों से अखबार भरे रहते हैं।

कहां गया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बयान जिसमें वह कहते हुए नजर आ रहे थे । उत्तर प्रदेश में बेटियां सुरक्षित नहीं है। लेकिन यह बयान 2017 में उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने से पहले एक रैली में कहा था । लेकिन आज उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और महिला सुरक्षा को लेकर उत्तर प्रदेश में क्या हो रहा है कि आपके सामने हर रोज खबरें आ ही रहे हैं। हकीकत तो यह है कि योगी और मोदी सरकार में भी उत्तर प्रदेश में बेटियां सुरक्षित नहीं है।