गोदी मीडिया के संपादकों और एंकरों कि झूठ फैलाने की सजा , फील्ड में भुगत रहे हैं रिपोर्टर , देखें

ऐसी कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल आंदोलन कर रहे किसान इन गोदी मीडिया के रिपोर्टरों को घेरते हुए नजर आ रहे हैं। और इन रिपोर्टरों से यह सवाल पूछे जा रहे हैं कि आखिरकार इस किसान आंदोलन के खिलाफ तुम्हारे चैनल झूठी खबरें क्यों चला रहे हैं जो तुम्हारे चैनल में बड़े-बड़े एंकर बैठे हुए हैं वह झूठ का प्रचार प्रसार इस किसानों के आंदोलन के खिलाफ क्यों कर रहे हैं। और इसी वजह से किसानों के आंदोलन के बीच जब इन चैनलों के रिपोर्टर जाते हैं

तो किसान इन्हीं लोगों को घेरकर सवाल यही पूछते हैं कि आखिर किसान आंदोलनों के खिलाफ झूठी खबरें इनके चैनल पर प्रसारित करते हैं। लेकिन गलती इन रिपोर्टरों की नहीं है गलती तो इनकी है जो सजे धजे स्टूडियो में बैठकर एक राजनीतिक पार्टी को बढ़ावा देकर झूठी खबरों का प्रचार प्रसार कर रहे हैं और उनकी सजा को यह रिपोर्टर भुगत रहे हैं। क्योंकि अभी कुछ दिन पहले गोदी मीडिया का एक एंकर इस आंदोलन को शाहीन बाग 2बता रहा था

और बाद में जब उसी चैनल का रिपोर्टर इन आंदोलन करते हुए किसानों के बीच आया तब उन्होंने उस रिपोर्टर से यही सवाल पूछा कि आपके उस एंकर को ऐसा क्या दिखा जिसने इस शांतिपूर्ण आंदोलन के लिए शाहीन बाग पार्ट 2 बता दिया था उसको ऐसे कौन से प्रमाण मिल गए थे जिस प्रमाणित से उसने बात यह कही थी। और ना जाने गोदी मीडिया के चैनल में बैठकर एंकर इन किसानों के खिलाफ झूठी खबरों का प्रचार प्रसार कर रहे है ।

और इसी वजह से सोशल मीडिया पर कई ऐसे वीडियो वायरल हो रहे हैं जिनमें किसान जो आंदोलन कर रहे हैं तो जब भी किसी गोदी मीडिया के रिपोर्टर को देखते हैं तब वे आंदोलन कर रहे किसान इन से सवाल पूछने लगते हैं लेकिन गलती इनकी नहीं है गलती तो उनकी है जो स्टूडियो में बैठकर झूठी खबरों का प्रचार प्रसार कर रहे हैं और जब उसी मीडिया के रिपोर्टर जब इन लोगों के बीच जाते हैं तो यह लोग इकट्ठे होकर उस रिपोर्टर से सवाल पूछते हैं।