एक प्राइवेट कंपनी में निकली 5 वैकेंसी , लेकिन इंटरव्यू देने पहुंचे हजारों छात्र , उमड़ी भीड़ , लगी लंबी लाइनें , पढ़ें पूरी खबर

भारत में बेरोजगारी लगातार बढ़ती जा रही है और इसी के चलते हुए भारत के युवा बेरोजगारी को लेकर 3 बार प्रदर्शन कर चुके हैं। लेकिन तीन बार प्रदर्शन करने के बाद भी गोदी मीडिया में इन छात्रों की खबर प्राइम टाइम तक नहीं पहुंच पाए। लेकिन आपने ऊपर तस्वीर में देखा होगा कि एक प्राइवेट कंपनी में ऑफिस सहायक पद के लिए सिर्फ 5 वैकेंसी होती हैं। लेकिन इंटरव्यू देने हजारों की तादात में छात्र पहुंच जाते हैं।

आप देख सकते हैं कि एक काफी लंबी लाइन है और उस लाइन में छात्र अपने दस्तावेज लेकर खड़े हुए हैं। लेकिन इन तस्वीरों को देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि भारत में बेरोजगारी कितनी है। कंपनी को तो सिर्फ 5 लोगों की जरूरत है लेकिन यहां इंटरव्यू देने हजारों लोग आ गए हैं। लेकिन यह हजारों छात्र जो इंटरव्यू देने आए हैं यह क्या सोचते होंगे। क्योंकि कंपनी में तो सहायक पद के लिए सिर्फ 5 वैकेंसी हैं लेकिन छात्र इतने यहां आए हुए हैं।

सोचिए देश की यह एक कंपनी के सामने बेरोजगारों की तस्वीर है सोचिए तो भारत में ऐसे कितने छात्र होंगे जिन्हें रोजगार नहीं मिल पा रहा है। क्योंकि देश का युवा रोजगार के लिए परेशान है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपनी चुनावी रैलियों में बड़े-बड़े भाषण दिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रोजगार को लेकर भी बड़ी-बड़ी बातें कहीं। और छात्रों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बातों पर विश्वास भी किया। लेकिन आज वही छात्र रोजगार को लेकर सरकार से सवाल पूछ रहे हैं।

और इन्हीं छात्रों ने 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के मौके पर राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के तौर पर मनाया। टि्वटर पर राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस ट्रेंड हुआ । और देश के युवाओं ने बेरोजगारी और निजी करण को लेकर प्रदर्शन किया बेरोजगार युवाओं ने पकौड़े के ठेले लगा कर प्रदर्शन किया। जब देश में कोरोनावायरस नहीं था तब सरकार ने देश के युवा को पकोड़े बेचने की सलाह दी थी। लेकिन आज देश में बेरोजगारी को लेकर क्या हालात हैं यह तस्वीर बहुत कुछ बयां करती है।