अमेरिका में भी अप्रवासी भारतीयों ने आंदोलन कर रहे किसानों के समर्थन में निकाली रैली , किसान

किसान आंदोलन भारत में अब बढ़ता ही जा रहा है देश के सभी प्रदेश के किसान एकत्र होकर इस आंदोलन में शामिल हो रहे हैं किसानों की जो मांगे हैं वह सरकार तक सुनाने की कोशिश कर रहे हैं। और किसान भी यही चाहते हैं कि यह काला कानून वापस हो क्योंकि इस कानून से किसानों को कोई फायदा होने वाला नहीं है लेकिन टीवी पर बैठकर तो यही समझाया जा रहा है कि इस बिल से बहुत फायदा होने वाला है लेकिन फायदा कैसे होगा यह बताने वाला कोई नहीं है।

वही देश के कोने-कोने से किसान इकट्ठे होकर इस आंदोलन में शामिल हो रहे हैं। पहले भी इस आंदोलन को कई बड़े विपक्ष के नेता दी इस आंदोलन को समर्थन कर चुके हैं। और सबसे बड़ी बात यह है कि यह आंदोलन जो किसान कर रहे हैं बिल्कुल शांतिपूर्ण है किसान अपने हक को मांग रहे हैं और जो काला कानून सरकार ने बनाया है उसको वापस कराने की मांग कर रहे हैं। लेकिन न्यूज़ चैनल ने इस शांतिपूर्ण आंदोलन को बदनाम करने में कोई कमी तो नहीं छोड़ी है।

खासतौर से कई गोदी मीडिया चैनल जो सरकार के पिछलग्गू बने हुए हैं उनकी अगर खबरों को आप देखेंगे तो उन्होंने इस किसान आंदोलन को बदनाम करने में कोई कमी नहीं छोड़ी है। लगातार चैनलों में इस आंदोलन के खिलाफ ही खबरें चलाई है। वैसे भी अत्याधिक किसानों की जो आवाजें हैं वह सोशल मीडिया पर भी सुनाई दे रही हैं और जिसका काम है इन किसानों की आवाजों को देश तक पहुंचाना सरकार तक पहुंचाना।

वह मीडिया बिल्कुल खामोश है भारत जो किसान आंदोलन कर रहे हैं और देश के कोने-कोने से इस आंदोलन में किसान शामिल हो रहे हैं इसी आंदोलन के समर्थन में अमेरिका के सेन फ्रांसिस्को में अप्रवासी भारतीयों ने इस किसानों के आंदोलन के समर्थन में रैली निकाली सोशल मीडिया पर भी एक वीडियो वायरल हो रहा है। सड़कों पर प्रवासी भारतीयों गाड़ियों सहित इस आंदोलन का समर्थन करते हुए दिखाई देते हैं