पालघर :गोदी मीडिया ने “बस ओए बस” को शोएब कर दिया

महाराष्ट्र के पालघर जिले में गड़चिंचिले गांव में 16 अप्रैल को यह घटना होती है जिसमें तीन लोगों के साथ मॉब लिंचिंग हो जाती है। यह घटना पुलिस के सामने होती है । कुछ भारतीय पत्रकार इसमें वही पुराना एंगल ढूंढने लगे जो वह पिछले कई सालों से करते आ रहे हैं सोशल मीडिया पर जब यह वीडियो वायरल हुआ तब इस वीडियो को गलत तरीके से प्रसारित करके धार्मिक रंग देने की कोशिश की गई इस वीडियो को लेकर सोशल मीडिया पर भारतीय जनता पार्टी का आईटी सेल एक्टिव हो गया और इसने इस वीडियो को लेकर सोशल मीडिया पर धार्मिक रंग देना शुरू कर दिया। सोशल मीडिया पर इस वीडियो को लेकर दावा किया जा रहा है की भीड़ “मार शोएब मार” चिल्ला रही है यह देखिए मोहित भारतीय का ट्वीट

हमारे देश में कुछ ऐसे पत्रकार हैं जो सोशल मीडिया पर धार्मिक वीडियो देखकर तुरंत टाई लगाकर स्टूडियो में नफरत फैलाने आ जाते हैं। कि ऐसे पत्रकारों को सोशल मीडिया पर बस धार्मिक एंगल मिल जाए क्योंकि उन्हें इस खबर पर मेहनत भी नहीं करनी पड़ती है क्योंकि खबर को सच तक पहुंचने के लिए खबर को पढ़ना पड़ता है उसके बारे में खोजना पड़ता है। जब यह वीडियो सुदर्शन न्यूज़ के एंकर सुरेश चहवनके को सोशल मीडिया पर यह वीडियो दिखाई दिया तो उन्होंने इस वीडियो को बिना जांच-पड़ताल किए अपने शो में वही हिंदू मुस्लिम का प्रोपेगेंडा चला दिया। और यह पत्रकार अपने शो में यह दावा कर रहा है की हत्या करने वाला शोएब है देखिए यह ट्विट


वायरल वीडियो की यह है सच्चाई: वीडियो में नहीं है शोएब

सोशल मीडिया पर इस घटना को अलग-अलग तरीके से पेश किया गया लेकिन जब इस वीडियो को ध्यान से सुना गया तो मालूम चला कि कुछ लोग “बस ओए बस” चलाते हुए सुनाई दे रहे हैं हम आप से भी अपील करते हैं कि इस वीडियो को जरा ध्यान से सुनिए और इस वाक्य को गौर कीजिए।

जिस मीडिया का काम है सच्चाई तक पहुंचना लोगों तक सच्चाई का पहुंचाना आज वह मीडिया सत्ता की गोदी में बैठकर उसकी चाटुकारिता कर रहा है। और झूठ का प्रोपेगेंडा कर रहा है। जिस मीडिया का काम होता है लोगों को सच्चाई तक पहुंचाना आज वही मीडिया झूठ को सच करके दिखा रहा है इन आंकड़ों को जहां धार्मिक रंग दिखा यह भी अपना रंग दिखाना शुरू कर देते हैं क्योंकि ऐसा करने में इन्हें छप्पर फाड़ टीआरपी मिलती है । आज हमारे देश की गोदी मीडिया की यह हालत है कि अगर हमारे देश में कोई घटना हो जाती है तो जितनी गोदी मीडिया है वह सब एक प्लेटफार्म पर एक जुबान बोलते हैं। आप अगर थोड़ा सा ध्यान लगाएं तो आपको पता चल जाएगा कि इन लोगों को जैसे कोई ऑपरेट कर रहा है।

अभी तो इस खबर को लेकर गोदी मीडिया में शुरुआत हुई है आगे देखो एंकर क्या-क्या रूप लेते हैं इसीलिए आपसे अनुरोध है कि इस वीडियो को ज्यादा से ज्यादा शेयर करके लोगों तक सही जानकारी पहुंचाएं क्योंकि ऐसी सांप्रदायिक रंग देने वाले समाचार अक्सर सांप्रदायिक घटनाएं पैदा करती हैं। इन गोदी मीडिया के एंकरों को इस घटना से कोई लेना-देना नहीं है इन्हें तो बस अपनी चाटुकारिता और टीआरपी से मतलब है