सुप्रीम कोर्ट ने सुदर्शन न्यूज़ के विवादित कार्यक्रम यूपीएससी जिहाद पर लगाई रोक , विवादित खबरें इस चैनल पर होती हैं प्रसारित

Sudarshan TV

सुदर्शन पर हमेशा मुसलमानों को लेकर नफरत की खबरें प्रसारित की जाती हैं। न्यूज़ चैनल उसे कहते हैं जिस पर बेरोजगारी महंगाई और देश के जरूरतमंद लोगों को लेकर खबरें चलाई जाती हैं। हालांकि इस सुदर्शन पर कोरोना को लेकर तब बहस हुई जब दिल्ली में तबलीगी जमात का मामला आया था उसके बाद आज तक इस पर कोरोनावायरस कोई खबर कोई बहस नहीं हुई। हमेशा इस चैनल पर मुस्लिमों को लेकर खबरें प्रसारित की जाती हैं।

जिस कार्यक्रम पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाई है सुप्रीम कोर्ट ने बहुत अहम कदम उठाया है। लेकिन और भी जो न्यूज़ चैनल है जो लगातार अपने चैनल से नफरती कार्यक्रम चला रहे हैं उन पर भी जल्द से जल्द रोक लगनी चाहिए। और उन न्यूज़ टीवी चैनल पर जनता से संबंधित मुद्दों की चर्चा हो । लेकिन क्या इस सुदर्शन पर कभी कोरोना के लेकर अर्थव्यवस्था को लेकर बेरोजगारी को लेकर खबरें प्रसारित की जाती है।

अगर छात्र मेहनत करके परीक्षाएं पास कर रहे हैं तो इनको उन छात्रों से भी दिक्कत हो रही है। सुदर्शन के इस कार्यक्रम में और राजनीतिक नेताओं के भाषणों में आपको कोई फर्क दिखाई नहीं देगा आपको ऐसा लगेगा कि कोई राजनीतिक नेता मंच पर आकर हमें भाषण दे रहा है। न्यूज़ एंकर और पत्रकार तो वह होता है जो आम लोगों के जरूरतमंद मुद्दों को सरकार के सामने लाकर रखता है लेकिन क्या ऐसा इस प्रदर्शन में या और बाकी न्यूज़ चैनल में हो रहा है।

देश में इस वक्त छात्रों की बेरोजगारी को लेकर क्या हालत है। इस तरीके से सुदर्शन पर इस तरीके के विवादित खबरों को चलाया । लेकिन इन खबरों से उन बेरोजगार छात्रों को क्या मिला पिछले कई सालों से बेरोजगारी का सामना कर रहे हैं। अगर आप इस सुदर्शन की पहले की खबरें भी देखेंगे तो आपको इसके शो में आप को विवादित ही कार्यक्रम मिलेंगे । और इस शो के जो मालिक हैं वह भारतीय जनता पार्टी की बड़ी बड़ी रैलियों में शामिल होते हैं।