पहले रिया चक्रवर्ती और फिर कंगना पर अटका मीडिया , और गायब हुए कोरोनावायरस , बेरोजगारी , महंगाई किसान के मुद्दे

पिछले काफी दिनों से रिया चक्रबर्ती को लेकर मीडिया जबरदस्त कवरेज कर रहा है । और रिया चक्रवर्ती के बाद कंगना का मामला सामने आ गया लेकिन यह दोनों खबरों के बीच आम जनता से संबंधित खबरें सारी गायब हो गई। छात्र बेरोजगारी को लेकर सवाल उठा रहे हैं और किसान अपनी समस्याओं को लेकर सड़कों पर आ गए हैं और अपनी आवाज उठा रहे हैं। किसानों के साथ क्या हो रहा है।

यह आपको मुख्यधारा के मीडिया चैनल पर देखने को नहीं मिला होगा वैसे तो किसान को विशेष दर्जा दिया जाता है लेकिन जब किसानों अपनी समस्या को प्रदर्शन करके सरकार तक पहुंचाने का प्रयास किया तब उनके साथ क्या हुआ यह आपने सोशल मीडिया पर वीडियोस भी देख लिए होंगे। कोरोनावायरस में भारत इस समय दूसरे नंबर पर है और प्रतिदिन जो मामले आ रहे हैं वह दुनिया में सबसे ज्यादा भारत में आ रहे हैं।

लोगों की नौकरियां लगातार जा रही हैं । ऐसे में जब वह लोग सब टीवी को देखते होंगे तब क्या सोचते होंगे। क्योंकि रिया चक्रवर्ती की खबरों पर कवरेज मीडिया अब से नहीं कर रहा है लगभग पिछले काफी दिनों से लगातार कवरेज कर रहा है। लेकिन इन्हीं खबरों के बीच आम जनता के मुद्दे गायब हो रहे हैं चाहे वह बेरोजगारी हो चाहे वह महंगाई हो चाहे वह नौकरी को लेकर मुद्दे हो।

लेकिन आप ने पिछले दिनों देखा ही होगा कि जिस तरीके से मीडिया रिया चक्रवर्ती को लेकर कवरेज कर रहा है अगर इसी तरीके से बेरोजगारी और नौकरियों को और किसानों की समस्याओं को लेकर कवरेज कर ले तो कम से कम इन लोगों का भला हो सकता है। छात्र अपनी आवाज बुलंद करने के लिए ट्विटर पर हैशटैग ट्रेंड करा रहे हैं। लेकिन मीडिया का पहिया किसी और ही पटरी पर चल रहा है।