जब सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म ‘केदारनाथ’ को भाजपा नेता ने की थी बैन करने की मांग , लेकिन अब बिहार में ..पढ़े

जब सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म केदारनाथ रिलीज होने वाली थी तब से लगभग 2 साल पहले मीडिया में यह खबर आई थी कि केदारनाथ फिल्म को भाजपा नेता ने बैन करने की मांग की थी क्योंकि यह फिल्म भाजपा नेता को लव जिहाद को बढ़ावा देती हुई नजर आ रही थी। लेकिन जब सुशांत सिंह राजपूत की केदारनाथ फिल्म रिलीज होने वाली थी तब भाजपा की मीडिया रिलेशन टीम से जुड़े एक भाजपा नेता अजेंद्र अजय ने प्रसून जोशी को लिखा ।

इस फिल्म पर बैन लगना चाहिए। क्योंकि भाजपा नेता ने एक दृश्य को लेकर आरोप लगाया था कि यह फिल्म लव जिहाद को बढ़ावा दे रही है । लेकिन उन दिनों सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म केदारनाथ की मुश्किलें बढ़ रही थी। और उस फिल्म को लगातार बैन करने की मांग की जा रही थी। लेकिन जो नेता सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म केदारनाथ को बैन करने को मांग कर रहे थे। वह किसी अन्य पार्टी से नहीं थे बल्कि वह भारतीय जनता पार्टी के नेता थे।

लेकिन अब क्या हो रहा है सुशांत सिंह राजपूत की फोटो के साथ बिहार में स्टीकर छप गए हैं वहां इलेक्शन आने वाला है मीडिया भी इस मुद्दे को जोरों शोरों से उठा रहा है रिया की खबरों पर तेजी से कवरेज की जा रही है कोरोनावायरस कहां से कहां चला गया इस पर कोई भी अपडेट मीडिया नहीं दे पा रहा है। लोगों के असल जिंदगी के मुद्दे मुख्यधारा की मीडिया से तो बिल्कुल ही गायब हो चुके हैं।

लेकिन अब बिहार चुनाव की तैयारियां चल रही है और स्टीकर भी छप गए हैं। और उन स्टीकर पर सुशांत सिंह राजपूत की एक और फोटो लगी हुई है और भारतीय जनता पार्टी का चुनाव चिन्ह भी है और ऊपर लिखा हुआ है जस्टिस फॉर सुशांत सिंह राजपूत। राजनीतिक विशेषज्ञों की माने तो इस बार बिहार में सुशांत सिंह राजपूत ही चुनावी मुद्दा है । क्या बिहार में यही मुद्दा है।