5 सितंबर , आज शाम 5 बजे और 5 मिनट , अपनी छतों पर ताली बजाकर थाली बजाकर घंटी बजा कर युवा बेरोजगार , ट्विटर पर चला ट्रेंड

पहले जब देश में कोरोना वायरस संक्रमण शुरुआत में फैलना शुरू हुआ था तब प्रधानमंत्री ने पूरे देश में संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की थी और उसके बाद ताली थाली बजाने का आदेश भी दिया था। उस ताली थाली बजाने को लेकर विपक्ष के लोगों ने आलोचनाएं भी की और सवाल भी खड़े किए कि आखिर इस ताली ताली बजाने से क्या होगा ताली थाली बजाने से अच्छा है कि स्वास्थ्य सुविधाओं पर ध्यान दिया जाए।

उस वक्त जब लोग तालियां और थालियां बजा रहे थे। और मुख्यधारा का मीडिया उन्हें कवरेज भी कर रहा था लेकिन जिस तरीके से तालियां और थालियां बजा रहे थे लोगों ने सोशल डिस्टेंस का पालन करना भी छोड़ दिया था सड़कों पर लोग निकल आए थे उस वक्त जिस वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ताली थाली बजाने की लोगों से अपील की थी। लेकिन उस थाली थाली को लोगों ने अलग-अलग प्रतिक्रियाएं दी।

उस वक्त यह चर्चा भी चली थी किस ओर से कोरोनावायरस भाग जाता है। लेकिन शोर से कोरोनावायरस भागता है इसका कोई भी प्रमाण नहीं है कोरोनावायरस सिर्फ बचाव करने पर ही भागता है। लेकिन इस वक्त ट्विटर पर ट्रेंड चल रहा है 5:00 बजे 5 मिनट। इस ट्रेंड में बेरोजगार युवा ताली थाली घंटी बजा कर सरकार को जगाने का काम करेंगे। क्योंकि देश में बेरोजगारी लगातार बढ़ती ही जा रही है।

आज 5 सितंबर है और 5 सितंबर 5:00 बजे 5 मिनट के लिए युवा अपने घरों के सामने थाली ताली बजाकर सोती हुई सरकार को जगाने का काम करेंगे। क्योंकि इस देश में कोरोनावायरस के मामले भी लगातार बढ़ते हुए जा रहे हैं। लोगों की नौकरियां भी लगातार जा रही हैं युवाओं के पास कोई रोजगार नहीं है। मजदूर वर्ग के जो लोग हैं उन्हें परिवार चलाना मुश्किल हो रहा है। आप देखिए यह ट्वीट।