कोरोनावायरस के केस 40 लाख हो गए पार , लेकिन मुख्यधारा की मीडिया पर कंगना , रिया , सुशांत , पर रिपोर्टिंग हो रही है , पढ़े

मुख्यधारा के मीडिया चैनलों पर जितनी बेबुनियाद खबरों को चलाया जाता है अगर उतना ही लोगों के जरूरी मुद्दों पर बहस की जाए तो उस बहस से कम से कम लोगों को तो फायदा मिलेगा। आपने देखा ही होगा कि टीवी पर रिया चक्रवर्ती को लेकर किस प्रकार रिपोर्टिंग हो रही है किस तरीके की भाषा इस्तेमाल हो रही है। और गोदी मीडिया के एंकर भी जोर जोर से चिल्ला कर रिपोर्टिंग कर रहे हैं।

लेकिन क्या इन एंकरों का जरा सा भी ध्यान कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण पर है। भारत में कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों की संख्या 4000000 से पार हो गई है ब्राजील में और भारत में अब कोई ज्यादा फर्क नहीं रह गया है आजकल में भारत ब्राजील से भी आगे निकल जाएगा लेकिन क्या किसी मुख्यधारा के मीडिया चैनल को इस बात की चिंता है। और यहां तक पिछले 24 घंटे में 87000 से ज्यादा मामले आए हैं।

लेकिन ध्यान किसकी ओर है कंगना की ओर कभी वह मुंबई पीओके में बता रही हैं कभी वह कुछ कह रही हैं। पर रिपोर्टिंग भी हो रही है। लेकिन जिस प्रकार से कंगना ने मुंबई को पीओके मैं बताया अगर यही बात अगर आमिर खान नसीरुद्दीन शाह या जावेद अख्तर ने कही होती तो आप मीडिया में कार्यक्रमों को देखते । लेकिन कंगना ने यह बात कही इस पर किसी ने कोई डिबेट नहीं की क्योंकि आप जानते हैं कि वह राजनीतिक पार्टी का पक्ष रखती हैं।

लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि जिस तरीके से रिया चक्रवर्ती और तमाम खबरों को चलाकर मीडिया आपके जरूरी मुद्दों को गायब कर रहा है लेकिन क्या कंगना के बेतुके बयानों पर ही लोगों के जरूरी मुद्दे गायब किए जा रहे हैं। जिस दिलचस्पी से इन मुद्दों पर बहस हो रही है कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण को लेकर कभी सरकार से इन गोदी मीडिया के एंकरों ने सवाल किया है।