डॉ कफील खान पर लगे NSA की अवधि को बढ़ाया गया लेकिन इसकी सूचना ना डॉक्टर कफील खान को दी गई ना ही उनके परिवार को

डॉ कफील खान जो बच्चों की मदद करने में सबसे आगे रहे सोशल मीडिया पर आज भी उनकी तस्वीरें गवाह है कि किस तरीके से वे गरीब बच्चों की मदद के लिए सबसे आगे खड़े रहे। जिस भाषण को लेकर डॉ कफील खान पर एनएसए लगाया गया। उस भाषण को कई वरिष्ठ लोग पुष्टि कर चुके हैं । कि उस भाषण में डॉ कफील खान ने कुछ गलत नहीं बोला लेकिन उस भाषण में डॉ कफील खान ने सिर्फ सरकार के खिलाफ आवाज उठाई थी सरकार से सवाल किए थे।

लेकिन डॉक्टर कफील खान पर एनएसए की अवधि को बढ़ाया गया सोशल मीडिया पर डॉ कफील खान की रिहाई के लिए मांग उठने लगी और कई वरिष्ट पत्रकारों ने भी डॉक्टर कफील खान की रिहाई के लिए कई प्रोग्राम किए और उन्होंने प्रोग्राम के अंतर्गत यह भी बताया था कि डॉक्टर कपिल खान अगर जेल से बाहर होते तो कोविड-19 में सबसे आगे खड़े होते।

जब किसी व्यक्ति पर लगे हिरासत की अवधि को बढ़ाया जाता है तब उस व्यक्ति और उसके परिवार को स्पीड पोस्ट के जरिए सूचित करके बताया जाता है लेकिन डॉक्टर कफील खान की एनएसए की अवधि एक नहीं बल्कि 2 बार बढ़ाई गई लेकिन इसकी सूचना न ही कफील खान को दी और ना ही उनके परिवार को इसकी सूचना मिली। और यह इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने आदेश में स्पष्ट किया है।

लेकिन इससे पहले भी डॉक्टर कफील खान को टारगेट किया गया। उन पर कई तरीके के आरोप लगाए लेकिन डॉक्टर कफील खान बाद में निर्दोष साबित हुए। लेकिन डॉक्टर कफील खान उन दिनों भी काफी परेशानी से गुजरे जबकि उन्होंने बच्चों को मदद पहुंचाई थी उन्होंने बच्चों की जान बचाई थी। और उन पर जो आरोप लगे थे वह सरासर गलत थे।

एक डॉक्टर को ऐसे वक्त नजरबंद किया गया जब देश में कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ रहा है। और प्रतिदिन मामले इतने बढ़कर आ रहे हैं। और भारत में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या दुनिया में हर रोज सबसे ज्यादा आ रही है। डॉ कफील खान तो राष्ट्रीय एकता का प्रतीक है। और उन्होंने जो भाषण दिया था वह भी राष्ट्रीय एकता का प्रतीक है।

लेकिन जिस तरीके से डॉक्टर कफील खान पर एनएसए लगाकर उसकी अवधि को बढ़ाया जाता रहा और आज उसी को लेकर उनकी पत्नी ने भी बयान दिया उनकी पत्नी ने कहा कि प्लीज एनएसए का गलत इस्तेमाल ना करें। डॉ कफील खान ने तो ऐसा कुछ भी किया भी नहीं था कि वह योगी सरकार के निशाने पर रहे।

क्योंकि कोर्ट ने कहा डॉक्टर कफील खान को एनएसए के तहत हिरासत में लेना और उनकी हिरासत की अवधि बढ़ाना गैरकानूनी है। उनकी पत्नी ने एक वीडियो भी जारी किया था जिसने में कहती हुई नजर आ रही थी कि उनकी जिंदगी के साथ महीने छिन गए और जिन्हें अब कोई वापस नहीं लौटा सकता।

लेकिन अब इस पर कांग्रेस के नेता अलका लांबा ने भी ट्विटर के जरिए उन्होंने अपनी प्रतिक्रिया रखी। देखिए अलका लांबा का यह ट्वीट।