इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा – डॉ कफील खान पर NSA लगाकर गैरकानूनी तरीके से हिरासत में रखा गया , इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिए तुरंत रिहाई के आदेश

डॉ कफील खान पिछले 6 महीने से जेल में बंद है उन पर एनएसए लगाया गया । और एनएसए की अवधि को भी बढ़ाया गया। सोशल मीडिया पर डॉक्टर कफील खान की रिहाई की मांग होने लगी उसके बाद डॉ कफील खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर यह तक कहा था कि उन्हें रिहा किया जाए ताकि कोरोनावायरस मरीजों की डॉक्टर कफील खान सेवा कर सके। लेकिन उस वक्त भी डॉक्टर कफील खान की आवाज दब कर रह गई।

लेकिन आपको बता दें डॉ कफील खान पर परेशानी तभी से आई है जबसे उन्होंने बच्चों की जान बचाई वो तभी से सोशल मीडिया पर हीरो बन गए थे लेकिन उसी वक्त डॉक्टर कफील खान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निशाने पर आ गए थे। वहीं से डॉक्टर कफील खान पर गर्दिशों के दिन शुरू हो। लेकिन उस पर भी डॉक्टर कफील खान को बेवजह परेशान किया गया।

लेकिन डॉक्टर कफील खान को 13 दिसंबर 2019 के दिन एक भाषण देने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया था उसके बाद डॉ कफील खान पर एनएसए लगाया गया और उसकी अवधि भी बढ़ाई गई। जबकि उस भाषण में कोई गलत शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया गया था और इसके लिए कई लोग इसकी पुष्टि भी कर चुके हैं। लेकिन इसके बाद भी डॉ कफील खान पर एनएसए की अवधि को बढ़ाया गया ।

लेकिन आप इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक आदेश को सुनाते हुए कहा कि डॉ कफील खान को एनएसए के तहत हिरासत में लेना गैर कानूनी है। और जो बार-बार एनएसए की अवधि को बढ़ाया गया है वो भी गैरकानूनी है इसलिए डॉक्टर कफील खान को तुरंत रिहा किया जाए। और इलाहाबाद हाईकोर्ट ने डॉक्टर कफील खान को तुरंत रिहा करने के आदेश भी दिए ।