मीडिया : रिया और सुशांत पर रिपोर्टिंग करने के चक्कर में गायब हो रहे हैं जरूरी मुद्दे , कोरोनावायरस के आंकड़े भी हर दिन बना रहे हैं रिकार्ड

जिन मुख्यधारा के मीडिया चैनलों में अक्सर देश के मुख्य विषयों पर सवाल उठते थे। वह मीडिया पिछले काफी दिनों से एक ही केस पर हिलग कर रह गया है। सीबीआई से आगे गोदी मीडिया के एंकर जांच पड़ताल कर रहे हैं। हर दिन अपने आप बिना प्रमाण के कोई ना कोई खुलासा लोगों को टीवी कार्यक्रम के जरिए बताते हैं । कभी-कभी न्यूज़ चैनल पर कॉमेडी भी होने लगती है जिसके वीडियो सोशल मीडिया पर जबरदस्त वायरल होते हैं ।

आपको मालूम है कि पिछले काफी दिनों से रिया और सुशांत को लेकर टीवी पर बहस हो रही है जिस पर कुछ लोग सरकार गिराने के सपने भी पहले से ही देखने लगे थे। लेकिन इस बहस की आड़ में कई जरूरी मुद्दे मीडिया से गायब हो रहे हैं। भारत की अर्थव्यवस्था लुकड़ती हुई चली जा रही है लोगों की नौकरियां लगातार जा रही हैं। और देश में कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों के आंकड़े हर दिन रिकॉर्ड बना रहा है।

क्या मुख्यधारा की मीडिया को इस बात की चिंता है कि भारत में कोरोना वायरस के आंकड़े लगातार प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं वर्तमान के समय में कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों की संख्या दुनिया में सबसे ज्यादा प्रतिदिन भारत में आ रही है। लेकिन ना इस पर हर दिन डिबेट करने वाले भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता डिबेट करने को तैयार हैं और ना ही गोदी मीडिया के एंकर।

परीक्षाओं को टालने के लिए छात्र हर रोज सरकार से गुहार लगा रहे हैं लेकिन उनका मुद्दा बिल्कुल गायब है। ऐसा भी नहीं है कि सुशांत का केस कोई नया केस हो पहले भी ऐसे कई केस हो चुके हैं। लेकिन मीडिया की इस बहस में कहीं ना कहीं आम लोगों से जुड़े जरूरी मुद्दे गायब हो रहे हैं जिसका जिम्मेदार सिर्फ मुख्यधारा का मीडिया है।