IRCTC में अपनी हिस्सेदारी बेचना चाह रही है मोदी सरकार , और सरकार बना रही है योजना ……विस्तार से पढ़ें पूरी खबर

मोदी सरकार भारतीय रेलवे आईआरसीटीसी का निजीकरण करना चाह रही है और इसके लिए योजना भी बनाई जा रही है। पहले भी कई कंपनियों का निजीकरण हो चुका है। और निजी करण प्रक्रिया वर्तमान के समय में भी चालू है। नवभारत टाइम की खबर के अनुसार सरकार हिस्सेदारी बेचने के लिए ओएफएस की मदद ले सकती है। और अपनी शेयर्स बेचने के लिए एक्सचेंज प्लेटफार्म का इस्तेमाल कर सकती है

आपको बता दें की 3 सितंबर को इसकी मीटिंग हो सकती है जहां लेकिन इसके बाद बोली लगाने की प्रक्रिया 11 सितंबर से शुरू हो सकती है और इसमें कंपनियां बोली लगाएंगी। पहले मोदी सरकार ने निजी कंपनियों को ट्रेन चलाने की मंजूरी दे दी जिसमें 151 ट्रेन और 109 रूट शामिल थे और इन पर मोदी सरकार ने यात्री ट्रेनें चलाने की मंजूरी दे दी। लेकिन इस निजी करण में बड़ी-बड़ी कंपनियां बोलियां लगाएंगी

देश में इस वक्त कोरोनावायरस संक्रमण भी तेजी से फैलता हुआ नजर आ रहा है। भारत इस वक्त कोरोनावायरस संक्रमण में तीसरे नंबर पर है और कोरोनावायरस की वजह से कई बड़ी कंपनियां बंद हो गई उनमें ताले लग गए उन में काम करने वाले लोगों की नौकरियां चली गई छात्रों की पढ़ाई अब और मुश्किल होती जा रही है। और महंगाई भी लगातार उछाल पकड़ रही है। सरकार को इन मुद्दों पर ध्यान देने की जरूरत है।

भारत में हर रोज कोरोनावायरस संक्रमण के मामले 65 हजार से ज्यादा आ रहे हैं। और दुनिया में कोरोनावायरस के मामले हर रोज भारत में सबसे ज्यादा आ रहे हैं। लेकिन कोरोनावायरस संक्रमण को काबू करने के लिए सरकार क्या योजनाएं बना रही हैं। कि जैसे अन्य देशों ने कोरोनावायरस संक्रमण पर काबू पाया है । वैसे ही भारत सरकार भारत में कोरोना वायरस को काबू करने के लिए क्या योजनाएं बना रही है।