अब यूपी में प्राइवेट होंगीं 40 आईटीआई , फीस बढ़ाकर की जाएगी 480 रुपये से 26000 रुपये , विस्तार पढ़ें पूरी खबर

देश में पहले से ही निजी करण होता हुआ चला आ रहा है और अब उत्तर प्रदेश में भी कुछ ऐसा ही होने जा रहा है जहां अब छात्र को ज्यादा दिक्कत होने वाले हैं उत्तर प्रदेश में जो छात्र आसानी से कम फीस होने की वजह से आईटीआई कर लिया करते थे अब उन्हें कहीं ना कहीं दिक्कत का सामना करना पड़ेगा क्योंकि उत्तर प्रदेश में 40 आईटीआई को प्राइवेट किया जाएगा और इस को निजी हाथों में सौंपने की तैयारी भी हो गई है।

तब से बड़ी बात कि पहले चरण में 16 और दूसरे चरण में 24 संस्थानों को प्राइवेट में बदलने की समिति बनकर तैयार हो गई है अब आगे आने वाले समय में छात्रों का प्रवेश निजी आईटीआई में ही होगा। और जिन छात्रों की फीस ₹480 सालाना जमा होती थी वह 26000 हो जाएगी। यानी छात्रों पर फीस का बोझ अब 54 गुना और बढ़ जाएगा। छात्र पहले से ही फीस बढ़ने को लेकर परेशान होते रहे हैं लेकिन अब आईटीआई का निजीकरण होने जा रहा है।

सबसे अहम बात यह है कि देश में एक वक्त कोरोनावायरस का दौर चल रहा है करोड़ों नौकरियां जा चुकी है छात्रों की नौकरी का कोई अता पता नहीं है छात्रों को नौकरियां पहले से ही नहीं कि जब देश में कोरोनावायरस भी नहीं था तब भी वह सरकार से नौकरियों के लेकर सवाल उठा रहे थे। जहां पहले आईटीआई की फीस सालाना ₹480 देनी पड़ती थी अब छात्रों को बहुत 26000 फीस देनी होगी।

अभी तक जितना भी निजी करण हुआ है उसका खामियाजा जनता को उठाना पड़ा है लेकिन अब जब देश में कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है और लोगों की नौकरियां भी जा रही है लोगों के पास काम नहीं है छात्रों को पढ़ाई करना भी मुश्किल हो रहा है लेकिन ऐसे में आईटीआई प्राइवेट करने की तैयारी हो रही है और फीस भी काफी बढ़ जाएगी। और छात्रों की मुश्किलें बढ़ेंगी ।