गुजरात : भारतीय जनता पार्टी के विधायक ने तैराकी प्रतियोगिता की आयोजित फिर हुआ , यह हादसा …..पढ़े ख़बर

गुजरात में बीजेपी विधायक ने ऐसी प्रतियोगिताएं थी जिसको पूरा करते हुए एक व्यक्ति की जान चली गई। बीजेपी विधायक एक प्रतियोगिता आयोजित की जिसमें पहले तालाब में नारियल फेका जाता है। उसके बाद जो भी व्यक्ति नारियल को पहले बाहर लेकर आएगा उसे उचित इनाम दिया जाएगा यह गुजरात में भारतीय जनता पार्टी के विधायक ने प्रतियोगिता रखी थी और जिसके चलते हुए एक व्यक्ति की जान चली गई।

देश में इस वक्त बारिश का मौसम है। और इस बार भी भारत के कई राज्यों में बाढ़ आ गई है बाढ़ के चलते हुए लोग काफी परेशान हैं। छोटे छोटे तालाब बारिश की वजह से पूरे भरे हुए हैं। और बाढ़ की वजह से कई नदियां उफान पर हैं। लेकिन फिर भी इन को देखते हुए यह तैराकी प्रतियोगिता रखी गई। आपको यही बता दें कि गुजरात के कच्छ में इस वक्त बारिश की वजह से बाढ़ जैसे हालात बन रहे हैं।

लेकिन उसे 15 सालों में इतनी बारिश कभी नहीं हुई पहली बार इतनी ज्यादा बारिश हुई। मुंद्रा इलाके में पानी की परेशानी बहुत रहती थी लेकिन इस बार में कितनी बारिश हुई तुम लोग हमें बारिश उत्साह से कम नहीं था। और इसी के चलते हुए तालाब पर पूजा करने का कार्यक्रम बना लिया। फिर वहां बीजेपी विधायक वीरेंद्र सिंह जडेजा और गांव के बीजेपी सरपंच धर्मेंद्र जेसर को आमंत्रित किया गया।

इसके बाद वहां कार्यक्रम रखा गया कि पहले तालाब में नारियल फेका जाएगा। उसके बाद जो भी तालाब से नारियल पहले लेकर आएगा उसे उचित इनाम से सम्मानित किया जाएगा तालाब पानी से बिल्कुल भरे हुए थे क्योंकि बारिश का मौसम है और भारत के कई राज्य ऐसे हैं जो बाढ़ से प्रभावित हैं। इसके बाद बीजेपी विधायक ने कार्यक्रम को आरंभ किया। और फिर पानी से भरे तालाब में नारियल फेंक दिया।

नारियल फेंकने के बाद चार लोग तालाब में कूद पड़े। चारों लोगों को नारियल जल्दी बाहर लाने की और इनाम पाने की इच्छा थी लेकिन पानी ज्यादा होने की वजह से 2 लोग पीछे लौट आए लेकिन दो युवा नारियल लाने के लिए आगे बढ़ गए तालाब बारिश की वजह से बिल्कुल भरा हुआ था जब वे 2 लोग आगे नारियल की ओर बढ़ने लगे। तो पानी ज्यादा होने की वजह से उनमें से भी एक व्यक्ति वापस लौट आया।

लेकिन अब जो आखरी व्यक्ति बचा हुआ था वे नारियल लाने के लिए आगे बढ़ता ही चला गया। वह आपके इतना अंदर चला गया कि जहां पानी का भराव बहुत अधिक था। और फिर वह पानी में डूबने लगा। और उस व्यक्ति को मौके पर कोई मदद नहीं मिल पाई तालाब में पानी ज्यादा था और इस वजह से उस चौथे आदमी जो नारियल लेने पानी में आगे बढ़ता ही चला गया था उसकी मृत्यु हो गई।

जब युवक पानी में डूबने लगा था तब उसने मदद के लिए आवाज भी लगाई थी लेकिन उसे कोई मदद नहीं मिल पाई प्रोग्राम आयोजित किया गया था लेकिन सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं किए गए थे कोरोनावायरस के चलते हुए भी वहां भीड़ इकट्ठा किया गया था ज्यादा लोगों के मुंह पर मास्क भी नहीं थे। गुजरात में भी कोरोनावायरस के मामले प्रितिदिन 1000 से ज्यादा आ रहे हैं। और ऐसे हालात में इस प्रितियोगिता को कराने की क्या जरूरत थी