‘नागरिकता’ को 8 महीने बाद भी अब तक नहीं मिल पाई है , भारतीय नागरिकता , नागरिकता संशोधन कानून..……… विस्तार से पढ़ें पूरी खबर

जब देश में नागरिकता संशोधन कानून लाया गया अब इसको लेकर बड़ी-बड़ी बातें की गई इस नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश में विरोध प्रदर्शन भी किए गए क्योंकि यह नागरिकता संशोधन कानून धर्म के आधार पर था। और इस नागरिकता संशोधन कानून को लेकर बड़ी-बड़ी बातें की गई थी इस नागरिकता संशोधन कानून के विरोध प्रदर्शन में कई लोगों की जानें गई हैं। लेकिन नागरिकता संशोधन कानून की स्थिति क्या है।

वह तो आपको नागरिकता से ही जानना पड़ेगी नागरिकता कि आपको बताएगी कि अब तक नागरिकता को नागरिकता क्यों नहीं मिल पाई। यह बात भी थोड़ी आपको अलग लगती होगी की नागरिकता को नागरिकता 8 महीने से नहीं मिल पाई है दरअसल यह किस्सा वह है जब देश में नागरिकता संशोधन कानून को लागू किया गया था उस वक्त पाकिस्तान से आए हिंदू परिवार में एक बेटी का जन्म हुआ था और उस बेटी का नाम उन्होंने नागरिकता रख दिया था।

दरअसल उन्होंने बेटी का नाम नागरिकता इसलिए रखा क्योंकि दिसंबर 2019 में नागरिकता संशोधन कानून को संसद में मंजूरी मिल गई थी और उसी वक्त पाकिस्तान से आए हिंदू परिवार में एक बेटी ने जन्म लिया था और उसी वजह से उस परिवार के माता-पिता ने उस बेटी का नाम नागरिकता रख दिया 8 महीने हो गए हैं बेटी नागरिकता के लिए लेकिन अभी तक 8 महीने के बाद भी नागरिकता को नागरिकता नहीं मिल पाई है।

हिंदी दैनिक भास्कर में इस खबर को छापा गया है आपको बता दें नागरिकता अपने परिवार के साथ दिल्ली के मजनू का टीला इलाके में एक बस्ती में रहती हैं। वहां डेढ़ सौ से ज्यादा ऐसे परिवार हैं जो पाकिस्तान से लोग यहां आकर बस गए हैं। और बे झुग्गी झोपड़ी में रहने के लिए मजबूर हैं। इनके पास बिजली का कनेक्शन ही नहीं है। अब नागरिकता बेटी 8 महीने की हो गई है लेकिन अभी तक नागरिकता को नागरिकता नहीं मिल पाई है ।