कोरोनावायरस काल में डॉ कफील खान को , देश की सुरक्षा के लिए खतरा मान रही है योगी सरकार , दो बार बढ़ाई जा चुकी है , रासुका की अवधि

डॉ कफील खान योगी सरकार के निशाने पर जब से रहे हैं जबसे उन्होंने गोरखपुर में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों को बचाया था। उसके बाद बिहार में चमकी बुखार से पीड़ितों का इलाज करने में भी डॉक्टर कफील खान सबसे आगे रहे। उत्तर प्रदेश में जब बच्चों की जान बचाई तो जान बचाने के बाद डॉक्टर कफील खान पर ही आरोप लग गए। हर जगह डॉ कफील खान गरीबों की मदद करने में सबसे आगे रहे।

लेकिन आज उत्तर प्रदेश सरकार की नजरों डॉ कफील खान सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा बन गए। आज देश में कोरोनावायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है ऐसे में अगर डॉक्टर कफील खान बाहर होते तो कोविड-19 के इलाज में सबसे आगे रहते। क्योंकि उन्होंने जिस वक्त गोरखपुर में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की जाने जा रही थी उस वक्त भी डॉक्टर कफील खान ने बच्चों को बचाने का काम किया था।

लेकिन जब से डॉक्टर कफील खान ने बच्चों की जान बचाई थी तब से डॉक्टर कफील खान चर्चा में आए थे बस उसी के बाद योगी सरकार के निशाने पर डॉ कफील खान आ गए थे। 2019 में नागरिकता संशोधन कानून आया और वह नागरिकता संशोधन कानून जो कि धर्म के आधार पर था। और उस नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश में विरोध प्रदर्शन भी हुए।

डॉ कफील खान के एक भाषण देने के आरोप में उन पर रासुका लगा दी गई। और वह फरवरी से जेल में बंद है। डॉ कफील खान पर आरोप लगाया गया कि उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ छात्रों के बीच भड़काऊ भाषण दिया था । लेकिन हमारे देश में भी नेता हर रोज बयान देते हैं। और राजनीति में जमे भी रहते हैं।

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण अब तेजी से फैल रहा है प्रतिदिन 60 हजार से ज्यादा कोरोनावायरस संचलन मरीजों की संख्या बढ़ रही है। ऐसे में उत्तर प्रदेश सरकार को देश की सुरक्षा के लिए डॉक्टर कफील खान से खतरा है डॉ कफील खान पर योगी सरकार ने दो बार बढ़ाई गई है। लेकिन कोरोनावायरस संक्रमण के चलते हुए । डॉक्टर कफील खान जैसे डॉक्टर पर रासुका की अवधि बढ़ाई जा रही है।

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जो भाषण डॉक्टर कफील खान में दिया था उस सभा में योगेंद्र यादव भी मौजूद थे उन्होंने कई बार यह साफ किया कि डॉ कफील खान ने ऐसा कोई भी भाषण नहीं दिया था ऐसा उन्होंने कुछ भी नहीं कहा था जो देश के संविधान अखंडता और देश की सुरक्षा के खिलाफ हो लेकिन इसके बावजूद भी यूपी सरकार ने उन पर रासुका लगाई।

और लगातार उस रासुका की अवधि को बढ़ाया गया। और अब डॉक्टर कफील खान नवंबर तक जेल में रहेंगे। सोशल मीडिया पर वह तस्वीर और वीडियो आज भी गवाह है कि डॉ कफील खान ने गरीबों और बेसहारों को कैसे मदद पहुंचाई है हर जगह डॉ कफील खान इलाज करने में सबसे आगे रहे और इस बात की गवाह सोशल मीडिया पर वह तस्वीरें है।