राजस्थान: मुस्लिम बुजुर्ग को “जय श्री राम” और “मोदी जिन्दाबाद” का नारा लगाने को किया मजबूर , ………विस्तार से पढ़े ख़बर

2014 के बाद से भारत में मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ी हैं और सबसे ज्यादा इसमें एक विशेष धर्म को टारगेट किया गया है। लेकिन मॉब लिंचिंग करने वालों के हौसले क्यों ना बुलंद हो जब उनका स्वागत फूल मालाओं से किया गया था। लेकिन सबसे बड़ी सोचने वाली बात यह है कि जब राम मंदिर का फैसला आया और राम मंदिर का फैसला रामलला के पक्ष में गया उस वक्त कोई बात नहीं हुई उसके बाद 5 अगस्त को भूमि पूजन किया जाता है

और यह भूमि पूजन ऐसे वक्त में किया जाता है जब देश में कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है। और ध्यान देने वाली बात यह है कि राम मंदिर के शिलान्यास के बाद जय श्री राम के नाम पर मॉब लिंचिंग की जाती है। और यह मॉब लिंचिंग राजस्थान में की गई है। यह वही राजस्थान है इसमें कुछ दिन पहले से विधायकों की उलट-पुलट मची हुई है । राम मंदिर के शिलान्यास के मौके पर देश को एक एकता का संदेश देना चाहिए

और मिलकर यह प्रार्थना करना चाहिए किस देश से यह कोरोनावायरस जैसी बीमारी खत्म हो। लेकिन अब भी हो क्या रहा है अब भी एक विशेष समुदाय को टारगेट किया जा रहा है ऐसे हालात में जब देश में कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा। राजस्थान में गफ्फार अहमद को जय श्री राम और मोदी जिंदाबाद के नारे लगाने को लेकर उनके साथ मॉब लिंचिंग की गई ।

गफ्फार अहमद के भतीजे के बयान के अनुसार सुबह 4:00 बजे उनके चाचा सवारियों को अपने ऑटो से छोड़ कर आ रहे थे लौटते टाइम जब कार में सवार दो युवकों ने उनसे तंबाकू मांगी ऑटो ड्राइवर गफ्फार अहमद ने ऑटो रोककर उनको तंबाकू दे दिया बाद में जब ऑटो ड्राइवर गफ्फार उन लोगों को तंबाकू देने लगे तब उन लोगों ने तंबाकू नहीं लिया। फिर उन्होंने अब्दुल गफ्फार ड्राइवर को जोड़कर का थप्प ड़ मा’रा और जय श्री राम और मोदी जिंदाबाद के नारे लगाने को मजबूर किया।

गफ्फार ड्राइवर ने वहां से भागने की कोशिश भी की लेकिन लोगों ने गाड़ी से अब्दुल गफ्फार ऑटो ड्राइवर का पीछा किया और फिर पीछा करते-करते जगमलपुर के पास गफ्फार ड्राइवर को रोक लिया। फिर एक बुजुर्ग के साथ मॉब लिंचिंग की गई। उसके बाद गफ्फार ड्राइवर से कहने लगे कि तुम्हें पाकिस्तान भेज देंगे तभी शांति से बैठेंगे। इस तरीके की बातें गफ्फार अहमद ड्राइवर से की गई

इससे पहले भी कई लोगों के साथ मॉब लिंचिंग हो चुकी है आपको पहलू खान का नाम तो याद ही होगा पहलू खान की मौत लिंचिंग भी राजस्थान में हुई थी लेकिन उस वक्त यह मोह ब्लीचिंग गाय को लेकर हुई थी लेकिन अब यह मोह ब्लीचिंग जय श्रीराम के नारे को लेकर और मोदी जिंदाबाद के नारे को लेकर हुई है। लेकिन इन सभी मॉब लिंचिंग में एक विशेष धर्म को टारगेट किया गया है और जिससे हमारी देश की साख को लगातार नुकसान पहुंच रहा है।

देश में राम मंदिर का शिलान्यास हुआ है और इस मौके पर तो राम के नाम का एक एकता का देश में संदेश जाना चाहिए लेकिन उनके नाम पर क्या हो रहा है। लेकिन एक बार फिर वही बात आ जाती है कि जब अपराधियों का फूल मालाओं से स्वागत होगा तो उनके हौसले तो बुलंद होंगे ही। और फिर उन्हें एक राजनीतिक पार्टी में पद दिए जाते हैं। पुलिस ने इस मामले पर एफ आई आर दर्ज कर ली है और दो लोगों को गिरफ्तार भी किया है।