वीडियो : यह हालत है पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के , जहां एक शव को एंबुलेंस के बजाय स्ट्रेचर से ले जाया जा रहा है

टीवी पर पीएम मोदी को लेकर बड़ी-बड़ी बातें की जाती डेढ़ सौ से ज्यादा देशों की मदद की बात की जाती है। विदेशों में जाकर हाउडी मोदी कार्यक्रम में बड़ी-बड़ी बातें की जाती है । और मीडिया अभी हर समय टीवी पर मोदी मोदी होता रहता है लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र से यह खबर सामने निकल कर आ रही है कि जहां सबको घर तक ले जाने के लिए एंबुलेंस तक नहीं है।

उस मृ तक व्यक्ति को एंबुलेंस के बजाय स्ट्रेचर पर ले जाया जा रहा है यह स्थिति है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी की यह बात तो बिल्कुल ठीक है कि अगर आप टीवी पर देखेंगे तो आपको पूरा भारत में ऐसा लगेगा कि सब कुछ ठीक-ठाक है लेकिन आप अगर जमीनी हकीकत मुद्दे देखेंगे तो आपको कुछ अलग ही नजारा दिखेगा जिस तरीके से एंबुलेंस नहीं होने के कारण स्ट्रेचर पर मजबूरन उस व्यक्ति को ले जाना पड़ रहा है।

जब यह खबर सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो तो गूगल पर सर्च किया और देखा कि इस खबर को मीडिया चैनलों ने क्या जगह दी है गूगल पर सर्च करने के बाद पता चला कि मुख्यधारा के मीडिया चैनल ने इस खबर को कोई जगह नहीं दी । इतनी बड़ी खबर है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र से इस तरीके की अव्यवस्था सामने निकल कर आ रही है लेकिन फिर भी इस पर मीडिया की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई।

पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र से प्रधानमंत्री द्वारा गोद लिए हुए गांव में स्क्रॉल डॉट इन की एक महिला पत्रकार ने उस गांव पर रिपोर्टिंग की और सच्चाई लोगों के सामने लाने की कोशिश की लेकिन हुआ क्या उस महिला पत्रकार पर ही एफ आई आर हो गई। वहां जब उस गांव में रिपोर्टिंग की गई तब लोगों ने अपनी समस्याएं बताई। यह बात मौजूदा सरकार को अच्छी नहीं लगी थी।

देश में कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है । उत्तर प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्थाएं बिल्कुल खराब है अगर सरकार चाहती तो लॉकडाउन के 3 महीने मिले थे इस खराब व्यवस्था को ठीक कर सकती थी बल्कि उत्तर प्रदेश है क्या 3 महीने में पूरी देश की स्वास्थ्य व्यवस्था ठीक हो जाती अगर स्वास्थ्य व्यवस्था पर ध्यान दिया गया होता क्योंकि बाद में लॉकडाउन पूरी तरीके से फेल साबित हुआ।

सोशल मीडिया पर एक पहले भी वीडियो वायरल हुआ था जहां व्यक्ति को स्ट्रेचर पर ले जाया जा रहा था उसके साथ एक छोटा बच्चा मासूम भी स्ट्रेचर को धक्का लगा रहा था वह वीडियो भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ लोग उस वीडियो को लेकर मौजूदा सरकार से सवाल करने लगे थे । लेकिन बाद में पता चला कि ₹30 नहीं देने के कारण वहां स्ट्रेचर पर खुद का लगाना पड़ा और साथ में एक छोटा मासूम भी धक्का दे रहा था।

यह खबरें निकलकर सोशल मीडिया पर सामने आ रही है लेकिन फिर भी अगर अभी आप टीवी खोल कर देखेंगे तो आपको सब कुछ ठीक-ठाक दिखाई देगा टीवी को आपको लेंगे विपक्ष में कमी दिखाई देगी एंकर विपक्ष से सवाल पूछे जाते होंगे। और टीवी पर बहस हो रही होगी। सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है आप भी देखिए ट्वीट किया गया यह वीडियो