WHO ने कहा , कि कोरोनावायरस वैक्सीन की 2021 से पहले कोई संकेत नही , लेकिन गोदी मीडिया रोज ले आता है कोरोनावायरस की वैक्सीन

पूरी दुनिया में कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों की संख्या अब करोड़ों में हो गई है भारत में भी कोरोनावायरस अब तेजी से रफ्तार पकड़ रहा है और गोदी मीडिया पर हर रोज कोरोनावायरस की वैक्सीन को लेकर खबरें आ जाती हैं। आपको बता दें जो गोदी मीडिया वैक्सीन की खबरें बताता है उसका कोई प्रमाण नहीं होता। और हर रोज कोरोनावायरस की वैक्सीन का कार्यक्रम लेकर आ जाते हैं।

कोरोनावायरस की वैक्सीन के बारे में अगर कहा जाए तो गोदी मीडिया के जो एंकर हैं उन्होंने बाबा रामदेव की कोरोनावायरस की कोरोनिल कोरोनावायरस की वैक्सीन बता दिया था। और बाद में हुआ क्या कि बाबा रामदेव ने उसे खांसी जुकाम के लाइसेंस पर कोरोनावायरस की दवाई बनाने का दावा किया और जिसे गोदी मीडिया के एंकरों ने कोरोनावायरस की वैक्सीन बताया था।

लेकिन जबकि इस वैक्सीन का कोई प्रमाण नहीं था लेकिन फिर भी इसके बारे में खबरें खूब चलाई हैं विज्ञापन पर रोक लगाई गई थी लेकिन इसके बावजूद भी विज्ञापन को कार्यक्रम में प्रसारित किया गया था। लेकिन जब टीवी पर देखा गया तो मोदी मीडिया के एंकर बाबा रामदेव की दवाई को कोरोनावायरस की वैक्सीन और कोरोनावायरस की दवाई बता रहे थे उसके बारे में बता रहे थे कि इसमें कौन-कौन सी जड़ी बूटियों का मिश्रण है।

वहीं एक्सपर्टो ने यह भी दावा किया है कि फरवरी 2021 तक भारत में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या प्रतिदिन 2 लाख 87 हज़ार पहुंच जाएगी। वर्तमान के समय में 45 हजार से ज्यादा भारत में कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों की संख्या प्रतिदिन पहुंच रही है और अभी जुलाई का महीना चल रहा है। और जुलाई के महीने में वर्तमान के समय में 45000 से ज्यादा कोरोनावायरस संक्रमित मरीज प्रतिदिन पाए जा रहे हैं।

लेकिन ऐसे में यह जो मामले लगातार बढ़ रहे हैं इन्हें रोकना बहुत जरूरी है वरना भारत की स्थिति बहुत खराब हो जाएगी। सरकार अगर अब भी नहीं जागेगी तो कोरोनावायरस को रोकना बहुत मुश्किल हो जाएगा क्योंकि कोरोनावायरस की वैक्सीन का अभी तक कोई अता-पता नहीं है डब्ल्यूएचओ कह रहा है। कि 2021 से पहले कोरोना वायरस वैक्सीन आने का कोई संकेत नही है क्योंकि कोरोनावायरस की वैक्सीन का अभी तक कोई अता-पता नहीं है ।

क्योंकि डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि कोरोनावायरस की वैक्सीन जनवरी 2021 से पहले आने की कोई संभावना नहीं है। ऐसे में क्या तब तक कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों की संख्या प्रतिदिन बढ़ती चली जाएगी। क्योंकि जनवरी 2021 में अभी 5 महीने का वक्त है और भारत में प्रति दो-तीन दिन में एक लाख से ज्यादा कोरोनावायरस संक्रमित मरीज पाए जा रहे हैं। और जब दो-तीन दिन में जब एक लाख कोरोनावायरस संक्रमित मरीज आएंगे तब जनवरी तक कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों की संख्या कितनी होगी।

चिंता इस बात की है कि भारत में जो कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ रही है वह ना तो स्थिर हो रही है और ना ही कम हो रही है क्योंकि अमेरिका और ब्राजील में कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों की संख्या स्थिर दिख रही है लेकिन भारत में कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती चली जा रही है।