डोनाल्ड ट्रंप बोले – कोरोनावायरस टेस्टिंग में अमेरिका नंबर वन , और हमारे बाद टेस्टिंग कर रहा है भारत , पढ़े

आपको पता है यहां अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अभी कुछ दिन पहले क्या कहा था की अगर भारत में भरपूर टेस्टिंग हो तो भारत में अमेरिका से ज्यादा कोरोनावायरस पॉजिटिव केस निकलेंगे। लेकिन अब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप यह बयान दे रहे हैं कि अमेरिका टेस्टिंग में नंबर वन और उसके बाद भारत। लेकिन भारत कोरोनावायरस टेस्टिंग में कितना अच्छा काम कर रहा है यह तो भारतवासी ही जानते हैं।

भारत की आबादी लगभग 135 करोड़ है । और यहाँ टेस्टिंग कितनी हुई है पूरे भारत में अभी तक लगभग 1 करोड़ 47 लाख ही टेस्टिंग हो पाई है । गुजरात मॉडल में अभी तक लगभग 5 लाख 62 हज़ार टेस्टिंग हुई है। और गुजरात मॉडल अगर देखा जाए तो शुरु से ही इसमें टेस्टिंग कम हुई है अगर टेस्टिंग शुरू से ही ज्यादा होती तो आज इतने भारत में कोरोनावायरस संक्रमित के केस नहीं होते।

जब भारत में कोरोनावायरस संक्रमण फैला था 30 जनवरी 2020 को पहला केस भारत में आया था अगर तभी जांच तेज कर दी जाती एयरपोर्ट पर रोक दिया जाता तब आज यह दिन देखना ना पड़ता जो कि आज 12 लाख के पूरे भारत में होने वाले हैं लेकिन फिर भी सरकार कोई गौर नहीं ले रही है। अस्पतालों की हालत बद से बदतर होती जा रही है। लेकिन कोरोनावायरस की लड़ाई डॉक्टर जैसे लड़ रहे हैं वैसे भारत में डॉक्टर कोरोना वायरस से जंग लड़ रहे है।

ऐसे में हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बयान देते हैं कि भारत ने 150 से ज्यादा देशों की मदद की है अब ना जाने वह कौन कौन से ऐसे देश में जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मदद पहुंचाई है क्योंकि भारत में अब 12 लाख केस होने वाले है ।तो प्रधानमंत्री अपने ही देश को क्यों भूल गए और अगर ट्रंप की बात की जाए तो ट्रंप ने भी यह बयान दिया था कि अगर भारत में भरपूर जांच हो तो अमेरिका से ज्यादा कोरोनावायरस संक्रमित के केस निकलेंगे।

अब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप यह कह रहे हैं कि अमेरिका जांच में नंबर वन है और हमसे बाद भारत है। अगर देखा जाए तो अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी अपने बयान बदलते रहते हैं पहले उन्होंने कुछ कहा और अब उन्होंने कुछ और बयान दिया पहले वह कह रहे थे कि भारत में जांच नहीं हो रही है अगर जांच भरपूर हो तो अमेरिका से ज्यादा केस निकलेंगे अब वह यह कह रहे हैं कि अमेरिका जांच में नंबर वन है और दूसरे नंबर पर भारत।

आपको बता दें भारत देश की जो आबादी है वो 135 करोड़ है और 135 करोड़ की आबादी में जांच लगभग एक करोड़ 47 लाख से ज्यादा हो पाई है यानी लॉकडाउन से लेकर अब तक लगभग एक करोड़ 47 लाख से ज्यादा जांच हो पाई है। लेकिन पहले कोरोनावायरस संक्रमित मरीज इतने नहीं होते थे अब तो यह आंकड़ा लगातार ऊपर की ओर बढ़ता हुआ चला जा रहा है अब तो इस आंकड़े में 40000 को छू लिया है और ऊपर की ओर बढ़ रहा है ।

ऐसे हालात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के 150 देशों से ज्यादा में कोरोनावायरस से लड़ने के लिए मदद पहुंचाते हैं और लॉकडाउन के समय अपने ही देश के मजदूर सड़क पर पैदल चलकर घर पहुंच रहे थे। जब लॉकडाउन को लगाया गया तो उस वक्त पीएम केयर्स फंड बनाया गया और उसमें बड़े-बड़े उद्योगपतियों ने कोरोनावायरस से लड़ने के लिए दान किया उस का पैसा अभी तक गरीबों तक नहीं पहुंच पाया है । अभी तक भारत में 135 करोड़ की आबादी में सिर्फ लगभग 1 करोड़ 47 लाख टेस्टिंग हो पाई है।