11 लाख से ज्यादा केस होने के बावजूद भी पश्चिम बंगाल के बीजेपी चीफ दे रहे हैं गोमूत्र पीने की सलाह , पढ़ें पूरी खबर

दुनिया कोरोनावायरस की वैक्सीन ढूंढने में लगी हुई है दुनिया के हर देश यही चाह रहे हैं कि जल्द से जल्द उन्हें कोरोनावायरस की मिल जाए और पूरी दुनिया से कोरोनावायरस को खत्म किया जाए। लेकिन हमारे यहां जो डॉक्टर हैं जो वैज्ञानिक हैं वह तो सर्च कर रहे हैं क्योंकि उनका काम है। हमारे यहां के नेता सिर्फ गौ मूत्र पर ही निर्भर हैं। भारत में जब कोरोनावायरस संक्रमण शुरू हुआ था तब भी नेता गोमूत्र सेवन की सलाह दे रहे थे।

भारत में जब कोरोनावायरस का संक्रमण फैल रहा था और जिस वक्त लॉकडाउन को लगाया गया था। लेकिन उस वक्त भी कोरोनावायरस को कम करने के लिए गोमूत्र की पार्टी रखी गई थी और गोदी मीडिया पर भी इसकी जमकर कवरेज हुई और नतीजा आज आपके सामने है । अगर उस वक्त कोरोनावायरस की टेस्टिंग ज्यादा से ज्यादा की जाती तो आज यह मामले इतने नहीं होते।

भारत में कोरोनावायरस के संक्रमित मरीजों की संख्या 11 लाख से पार निकल गई है और यह संख्या लगातार बढ़ रही है। भारत कोरोनावायरस के मामले में तीसरे नंबर पर पहुंच गया है। और भारत में कोरोनावायरस के मामले लगातार तेजी से बढ़ भी रहे हैं। लेकिन इतने पर भी पश्चिम बंगाल के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष अपने बयान में कहते हैं कि वायरस के लड़ने के लिए गोमूत्र की सलाह दे रहे हैं।

यह गाय को लेकर इनका कोई नया बयान नहीं है इन्होंने पहले भी एक बयान दिया था और उसमें उन्होंने कहा था की गाय के दूध में सोना होता है। और जबकि इस बयान का कोई प्रमाण नहीं है। एक बात और भी है भारतीय जनता पार्टी के नेताओं सांसदों विधायकों इन सभी को इलाज और दवाई और वैक्सीन सिर्फ गाय में ही क्यों दिखती है। कैंसर का इलाज गोमूत्र कोरोना का इलाज गोमूत्र तरीके का इलाज इन विधायकों के लिए सिर्फ गोमूत्र में है।

क्योंकि जिस वक्त भारत में कोरोनावायरस संक्रमण फैल रहा था वही वक्त था कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने के लिए स्वास्थ्य सुविधाएं जिन राज्यों की बद से बदतर थी उनको सुधारने का सही वक्त था लेकिन उस वक्त भी यह गोमूत्र की सलाह देते रहे। उसके बाद गोदी मीडिया का काम था जनता की आवाज को सरकार तक पहुंचाना लेकिन उसने तबलीगी जमात के सहारे मुस्लिमों को टारगेट करना शुरू कर दिया था।

और इसके बाद भारत में कोरोनावायरस के मामले लगातार बढ़ते रहे लॉकडाउन के 115 दिनों में मात्र कोरोनावायरस संक्रमित के मामले 1 लाख हो गए थे लेकिन अब लॉकडाउन जैसे ही खुला वैसे ही कोरोनावायरस संक्रमित के मामले 11 लाख पहुंच गए हैं। जैसे ही लोग डाउन खुला वैसे ही गृह मंत्री अमित शाह बिहार में डिजिटल रैली कर बैठे। जनता को फायदे सुनाने लगे।

आज भारत में यह स्थिति है कि कोरोनावायरस लगातार तेजी पकड़ रहा है और ऐसे में यह नेता आज भी वह सलाह दे रहे हैं जो इन्होंने 4 महीने पहले दी थी और इसी सलाह के बावजूद भारत में कोरोनावायरस के मामले 11 लाख हो गए हैं। लेकिन फिर भी यह भारतीय जनता पार्टी के नेता गोमूत्र की सलाह दे रहे हैं। कल 24 घंटे में भारत में 39000 मामले सामने आए थे। और यह अब तक के सबसे ज्यादा मामले हैं।