यूपी-बिहार में आ रहे हैं दिल्ली से ज्यादा कोरोनावायरस संक्रमित के मामले , दोनों राज्यों में प्रतिदिन आने वाले कोरोनावायरस की केस दिल्ली से निकले आगे

पहले दिल्ली में कोरोनावायरस के मामले एकदम बढ़े थे। लेकिन उसके बाद दिल्ली में कोरोनावायरस के मामले बनते हुए नजर आए पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कुल 1475 मामले सामने आए हैं। जो कि पहले आने वाले मामलों से बहुत कम है। लेकिन अगर यूपी और बिहार की बात की जाए तो इन दोनों राज्यों में दिल्ली से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। और यह दोनों राज्य दिल्ली से आगे निकल गए हैं

कोरोनावायरस को रोकने के लिए बस एक ही काम किया जा सकता है वह है ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग क्योंकि जितनी ज्यादा टेस्टिंग होगी उतने ही कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों का पता लगाया जा सकता है अगर कोरोनावायरस की टेस्टिंग ज्यादा नहीं होगी तब कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों का पता लगाना बहुत मुश्किल हो जाएगा। दिल्ली में प्रतिदिन आने वाले मामलों की संख्या 4000 तक पहुंच गई थी।

लेकिन अब दिल्ली में केबल 1400 के करीब मामले आ रहे हैं। जो कि यूपी और बिहार में प्रतिदिन आने वाले मामलों से कम है। यूपी में भारतीय जनता पार्टी की पूर्ण बहुमत की सरकार है और बिहार में भारतीय जनता पार्टी की गठबंधन की सरकार है। और बिहार में चुनाव भी आने वाले हैं । क्योंकि पिछले 24 घंटे में भारत में कुल मामले लगभग 40,000 आए हैं और यह अब तक की बहुत बड़ी संख्या है।

लेकिन उत्तर प्रदेश और बिहार में दिल्ली से मामले आगे निकल गए हैं यानी प्रतिदिन आने वाले मामलों की संख्या इन दोनों राज्यों उत्तर प्रदेश और बिहार में दिल्ली से ज्यादा है। उत्तर प्रदेश और बिहार में जिस तरीके से स्वास्थ्य सुविधाएं चरमराई हुई हैं उन्हें ठीक करने की आवश्यकता है बिहार में स्वास्थ्य सुविधाएं ज्यादा ठीक नहीं है उन्हें सुधारने की जरूरत है लेकिन वहां राजनीतिक पार्टियों का सिर्फ चुनाव पर ध्यान है।

क्योंकि कुछ दिनों बाद बिहार में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और सभी उसकी तैयारियों में लगे हुए हैं कोरोनावायरस वह तो हर कोई देखने वाला नहीं है। अगर आंकड़ों पर गौर की जाए तो आज 1100000 से मामले पार निकल जाएंगे दुनिया में भारत अभी तीसरे नंबर पर है। पर यह मामले लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं। प्रतिदिन आने वाले मामलों की संख्या भी लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं वह कम नहीं हो पा रहे हैं।

बात अगर दिल्ली की की जाए तो यहां मामले कम हुए हैं। क्योंकि जहां 4000 केस आ रहे थे अब वहां सिर्फ लगभग 1400 केस रह गए। दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार है वहां के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पहले भी स्वास्थ्य व्यवस्था और शिक्षा व्यवस्थाओं पर ज्यादा ध्यान दिया है और और केंद्र सरकार ने किस पर ध्यान दिया है यह बताने की जरूरत नहीं है। आप जानते ही होंगे।

दिल्ली में पहले ही मोहल्ला क्लीनिक बनाए गए थे जो गरीबों के इलाज के काम आ रहे थे। लेकिन अगर कोरोनावायरस के आंकड़ों को देखा जाए तो दिल्ली में कोरोनावायरस के प्रतिदिन आने वाले आंकड़ों पर कंट्रोल किया गया है। लेकिन अब बात अगर आती है यूपी और बिहार की तो यहां मामले लगातार बढ़ रहे हैं और यह प्रतिदिन आने वाले मामलों की संख्या दिल्ली से आगे निकल गई है।