राजस्थान सरकार गिराने के लिए बीजेपी ने मुंबई से इकट्ठा किया था पैसा , कांग्रेस के नेता सचिन सावंत ने बीजेपी पर लगाया आरोप , पढ़े पूरी खबर

राजस्थान में जिस तरीके से कोरोनावायरस काल में सरकार गिराने के प्रयास किए जा रहे हैं अगर इतने प्रयास कोरोनावायरस को रोकने के लिए कर लिए जाएं तो हो सकता है इस स्थिति में सुधार आ जाए। कांग्रेस के नेता सचिन सावंत ने भारतीय जनता पार्टी पर यह आरोप लगाए हैं कि राजस्थान में गहलोत सरकार को गिराने के लिए मुंबई के व्यापारियों से पैसा इकट्ठा किया गया था।

अब महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने अपने बयान में कहा कि सचिन सावंत द्वारा दिए गए बयान में बीजेपी पर लगे आरोपों की जांच हो रही है। कि कोरोनावायरस काल में इस तरीके की विधायकों की खरीद फरोख्त चल रही है। देश में कोरोनावायरस संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है लेकिन इस बारे में सोचने के लिए सरकार के पास क्या वक्त नहीं है यह सरकार सिर्फ सरकार गिराने या बनाने के लिए बनी हुई है।

कांग्रेसी नेता सचिन सावंत ने जो भी भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाए हैं कि सरकार गिराने के लिए मुंबई के व्यापारियों से पैसा इकट्ठा किया गया था अब इस बयान के बाद जब जांच होगी तभी मामला सामने आएगा कि क्या यह बात सही है या गलत। लेकिन सरकारों को कोरोनावायरस काल में क्या यह करना सही है। भारत में लगातार कोरोनावायरस के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं और जो प्रतिदिन मामले आ रहे थे वह भी रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं।

क्योंकि जब लॉकडाउन लगाया गया था उससे लगभग 10 दिन पहले मध्यप्रदेश में भी यही हुआ था मध्यप्रदेश में कमलनाथ की सरकार थी और वहां ज्योतिरादित्य सिंधिया भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए और अपने साथ कई विधायक भी ले गए और फिर वहां कोरोनावायरस काल में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनाई गई। इसी कारण लॉकडाउन को आगे बढ़ाया गया

जब मध्यप्रदेश सरकार गिराई गई थी। और इसी वजह से लॉकडाउन को आगे बढ़ाया गया। यह वक्त तो वह है की गरीबों को ज्यादा से ज्यादा मदद पहुंचाई जाए और जिन अस्पतालों की हालत बद से बदतर है उन्हें सुधारने का मौका है लेकिन फिर भी सरकार इस मौके को गंवा रही है और लगातार सरकार गिराने पर लगी हुई है। सर इस वक्त भी कोरोनावायरस पर ध्यान नहीं दिया तो आगे हालात बहुत गंभीर होंगे