यह तस्वीर बिहार की है इसलिए गोदी मीडिया चुप है , मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले की यह तस्वीर है , पढ़े पूरी खबर

यह जो तस्वीर है यह बिहार की तस्वीर है। और यह वही बिहार है जिसमें हाल ही में विधानसभा के चुनाव होने हैं। लेकिन इसी राज्य में कोरोनावायरस की रफ्तार पकड़ रहा है। कि बिहार से खबर और आई थी कि चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी के नेता बिहार बीजेपी मुख्यालय में लगातार मीटिंग कर रहे थे और जिसके बाद 75 बीजेपी नेता कोरोनावायरस संक्रमित पाए गए थे।

बिहार के नालंदा में एंबुलेंस कर्मियों ने हड़ताल कर ली है जहां यह हड़ताल की है वहां बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का गृह नगर है। और यह हड़ताल इन्होंने इसलिए की है क्योंकि स्वास्थ्य व्यवस्था बिल्कुल चरमराई हुई है लेकिन फिर भी सरकारें चुनाव की तैयारी कर रही हैं। जहां कोविड केयर सेंटर हैं। वहां कई जगह बारिश की वजह से पानी भर गया है और डॉक्टर और नर्स ठेले पर बैठकर जाते हुए नजर आए थे।

लॉकडाउन को खोला गया तब देश के गृहमंत्री ने सबसे पहले बिहार में डिजिटल रैली की एलईडी को लगाकर चुनाव का प्रचार प्रसार किया। लेकिन बिहार में बढ़ते कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों को कोई नहीं देख रहा है और ना ही कोई ध्यान देने वाला क्योंकि सबको बिहार में आने वाला चुनाव ही दिख रहा है। यह समय तो स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को ठीक करने का है उनके हालात सुधारने का है।

लेकिन वहां हो क्या रहा है चुनाव की तैयारियां चल रही है मीडिया अभी बिहार में चुनाव से संबंधित खबरों पर कवरेज कर रहा है लेकिन जो मरीज हैं उन पर कोई कवरेज करने को तैयार नहीं है। और इसकी गवाह वह तस्वीर है जिसमें मृत महिला के शव को ठेले द्वारा अस्पताल से घर तक ले जाया जा रहा है। ऐसा भी नहीं है कि गोदी मीडिया के पास यह तस्वीर और वीडियो ना पहुंच पाते हो।

यह तस्वीर शुक्रवार की है जहां अस्पताल में एक महिला की मृत्यु हो जाती है और फिर घर लाने के लिए कोई साधन नहीं हो पाता है फिर उस महिला के शव को ठेले पर रखकर घर तक लाया जाता है। आपको बता दें यह उसी बिहार की तस्वीर है जहां कुछ दिन बाद विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। वहां जनता एक सरकार चुनने वाली है यह वहां की तस्वीरें हैं देखिए आप इस वीडियो में।