गुजरात के सूरत में नगर निगम का आदेश : कि कपड़ा दुकानदार दुकान खोलते वक्त वंदे मातरम और दुकान पर बंद करते टाइम राष्ट्रगान गाएंगे

गुजरात के सूरत में नगर निगम की ओर से एक नई गाइडलाइन जारी हुई है इस गाइडलाइन में यह कहा गया है कि सूरत में जो कपड़ा व्यापारी हैं ना वह दुकान खोलते समय वंदे मातरम जाएंगे और दुकान बंद करते समय राष्ट्रगान जाएंगे। और निर्देशों में यह भी कहा गया है कि जो टैक्सटाइल बाजार है। वहां काम करने वाले कर्मचारियों को नारा लगाएंगे और वह नारा यह है ‘हारेगा कोरोना’ , ‘जीतेगा सूरत’ । यह गाना सूरत के कर्मचारियों को गाना होगा।

यह गाइडलाइन कोरोनावायरस को रोकने के लिए नगर निगम ने बनाई है और इसको पालन करने के लिए निर्देश भी दिए गए हैं। कपड़ा व्यापारी जब अपनी दुकान खोलेंगे तब उन्हें वंदे मातरम गाएंगे और दुकान बंद करेंगे तो राष्ट्रगान गाना गाएंगे । अब बात करते हैं भारत में कोरोनावायरस की भारत में कोरोनावायरस के आंकड़े कुल 8 लाख 50 हज़ार से पार निकल गए हैं। जिस गुजरात में यह निर्देश पालन करने के लिए दिए गए हैं वहां कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या तीसरे नंबर पर है।

गुजरात को अगर कोरोनावायरस संक्रमण के आंकड़ों में देखा जाए तो गुजरात चौथे नंबर पर है। लेकिन पता नहीं न जाने क्यों गुजरात की टेस्टिंग इतनी कम क्यों हो रही है भारत में अगर टेस्टिंग के आंकड़ों को देखा जाए। गुजरात टेस्टिंग के मामले में पूरे भारत में 11वें नंबर पर है। आखिरकार गुजरात में टेस्टिंग 11वें नंबर पर क्यों है क्योंकि यहां कोरोनावायरस से मरने वालों की संख्या तो तीसरे नंबर पर है और संक्रमण के मामले में चौथे नंबर पर हैं तो इस राज्य में इतनी टेस्टिंग कम क्यों है।

जब कोरोनावायरस भारत में कदम रख रहा था तभी नारे लगाए गए थे गो कोरोना गो। लेकिन क्या गो करो ना गो के नारे से कोरोनावायरस रुका । कोरोनावायरस के मामले अब लगातार तेजी पकड़ रहे हैं जो प्रतिदिन मामले कभी बहुत कम आया करते थे वह अब प्रतिदिन आने वाले आंकड़े 28000 से भी पार जा रहे हैं। जब तक हम प्रतिदिन आने वाले आंकड़ों पर काबू नहीं करेंगे तब तक कोरोनावायरस को रोका नहीं जा सकता।

अगर और देशों को देखा जाए जिन्होंने कोरोनावायरस को कंट्रोल किया है तो उन्होंने भरपूर कोरोनावायरस की है । लेकिन कोरोनावायरस को रोकने के लिए गुजरात ही नहीं पूरे देश में ज्यादा से ज्यादा जांच करने की आवश्यकता है। क्योंकि जब ज्यादा से ज्यादा जांच होगी तभी कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों का पता लगाया जा सकता है। टेस्टिंग ज्यादा होगी तभी हम कोरोनावायरस को हरा पाएंगे।