8 साल पहले विकास दुबे का करीबी , जय बाजपेई बेचता था चाय , फिर विकास दुबे के संपर्क में आकर बन गया है करोड़ों का मालिक , पढ़े पूरी खबर

उत्तर प्रदेश के कानपुर के गांव बिकरु में जो 5 दिन पहले हुआ था जिसमें उत्तर प्रदेश पुलिस के 8 सिपाही शहीद हो गए थे। लेकिन आरोपी को पुलिस अभी तक नहीं पकड़ पाई है कल एक पुलिस को सूचना भी मिली कि आरोपी दिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद होटल में छिपा हुआ है इसके बाद पुलिस ने जाकर होटल को चारों तरफ से घेर लिया लेकिन आरोपी पहले ही फरार हो गया।

हो सकता है फिर एक बार आरोपी को सूचना मिल गई हो कि पुलिस आप को पकड़ने आ रही है। और यह सूचना पाकर आरोपी एक बार फिर फरार हो गया हो सीसीटीवी फुटेज में भी साफ दिखाया गया है कि कैसे होटल के काउंटर के सामने विकास दुबे खड़ा हुआ है। लेकिन जब इसकी सूचना पुलिस को मिलो ।पुलिस ने वहां जाकर मौके पर होटल को घेरा लेकिन पुलिस के हाथ कोई कामयाबी नहीं लग पाई बल्कि उस होटल में एक शख्स को गिरफ्तार किया गया जो उसी विकास दुबे का साथी बताया जा रहा है।

विकास दुबे का सबसे करीबी आदमी जय बाजपेई जो कि विकास दुबे का खजांची था। बड़े-बड़े नेता बड़े-बड़े पुलिस अफसर बड़े बड़े अधिकारी उसके संपर्क में थे उनके साथ में तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर लगातार वायरल हो रही हैं लोग सवाल पर सवाल पूछ रहे हैं लेकिन जनता के सवालों का जवाब देने वाला कोई भी नहीं है मीडिया अब भी अपनी सत्ताधारी पार्टी को बचाने में लगा हुआ है।

हां यह बात तो अगर साफ है कि अगर उत्तर प्रदेश में किसी और दल की सरकार होती तो मीडिया ने अब तक चीख चीख कर उन्हें न जाने क्या घोषित कर दिया होता। लेकिन उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है लेकिन इतने बड़े मामले पर भी मीडिया ने कोई बड़ा कार्यक्रम नहीं किया। इस खबर को गोदी मीडिया के एंकर अपने प्राइम टाइम में जगह नहीं दे पाए हां अगर इस राज्य में किसी और दल की सरकार होती तब प्राइम टाइम हो सकता है 3 या 4 दिन चलता और ट्वीट भी लगातार करे जाते।

दैनिक भास्कर की जब एक खबर को गौर से देखा गया तो उसमें जय बाजपेई की जीवनी बताई गई है साफ हेड लाइन में ऊपर लिखा हुआ है कि 8 साल पहले जय बाजपेई चाय की दुकान पर चाय बेचा करता था। चाय बेचते बेचते मेहनत करते करते वह विकास दुबे के संपर्क में आया और फिर उसने विकास दुबे के साथ अपना धंधा खड़ा किया और आज वह करोड़ों की प्रॉपर्टी का मालिक है।

आप दैनिक भास्कर की वेबसाइट पर जाकर इस खबर को पढ़ सकते हैं पूरी जीवनी दैनिक भास्कर की वेबसाइट पर जाकर इस खबर को पढ़ सकते हैं पूरा जीवन परिचय जय बाजपेई का लिखा हुआ है। कि कैसे 8 साल पहले जय बाजपेई चाय बेचा करता था उसकी चाय की दुकान थी। 8 साल पहले चाय बेचकर अपना और अपने परिवार का गुजारा करता था। लेकिन चाय का बिजनेस भी अजीब है ना जाने लोगों को कहां से कहां ले जा सकता है।