कानपुर : जानिए कैसे विकास दुबे को सत्ताधारी नेता उसे संकट से बचाते रहे , विधायक से लेकर सांसद तक विकास दुबे की हर मुसीबत में मदद करते रहे

कानपुर में 8 पुलिसकर्मी को शहीद करने वाले अपराधी को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नहीं कर पाई है। अपराधी तभी से फरार है उसका कोई सुराग पुलिस नहीं लगा पा रही है। हालांकि पुलिस ने विकास दुबे के घर को पूरा जेसीबी से गिरा दिया है। और विकास दुबे का घर उसी जेसीबी से गिराया गया जिस जेसीबी से पुलिस का रास्ता रोका गया था। लेकिन कैसे विकास दुबे को सत्ता का संरक्षण मिलता रहा और कैसे वह अपने अपराध को बढ़ाता गया।

जब किसी आदमी की विधायक से लेकर सांसद तक पहुंचे हो सकती है और वह अपराध करता हो तब उसके गांव में लोग उससे डरते ही होंगे। एक पुलिस जिसके हाथ में कानून व्यवस्था होती है अपराधियों को रोकने की ताकत होती है। लेकिन विकास दुबे सत्ता के दम पर पुलिस थानों को अपनी उंगलियों पर नचाते था मनमर्जी मुताबिक पुलिस थानों से अपना काम कराता था । बड़े-बड़े पुलिस अधिकारी ने विकास दुबे से डरते थे। क्योंकि उससे सत्ता का भरपूर संरक्षण मिल रहा था।

कई बार विकास दुबे को पुलिस ने अपनी गिरफ्त में लिया । पहले अपराधों के तहत पुलिस विकास दुबे को पकड़कर थाने भी लेकर आई । लेकिन थाने पहुंचने से पहले ही बड़े-बड़े सत्ताधारी नेताओं के फोन आ जाते थे। और फिर कानून के हाथ कमजोर पड़ जाते थे। 90 के दशक में बॉलीवुड की फिल्मों में एक ईमानदार पुलिस ऑफिसर जब एक आरोपी को पकड़ती है तो एक नेता का फोन आ जाता है और फिर उसे छोड़ दिया जाता है।

बिल्कुल उसी तरह विकास दुबे के साथ भी यही किया जाता था। विकास दुबे के ऊपर 60 मुकदमे दर्ज हैं। कई मामलों में पुलिस ने विकास दुबे को गिरफ्तार भी किया लेकिन जैसे ही उस को गिरफ्तार करके थाने ले जाया जाता था किसी ना किसी बड़े सत्ताधारी नेता का फोन आ जाता था। और नेता के फोन आने के बाद विकास दुबे को छोड़ दिया जाता था। यानी बिल्कुल साफ है कि विकास दुबे को भरपूर सत्ताधारी नेताओं का संरक्षण मिल रहा था जिसकी वजह से उसने पूरे इलाके में आतंक मचा रखा था।

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है। यहां के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले एक बयान दिया था जिसमें कहा था कि अपराधी उत्तर प्रदेश छोड़कर चले जाएं वरना उनके लिए सिर्फ दो जगह है। लेकिन अब विकास दुबे ने इतना बड़ा अपराध कर दिया है 8 पुलिस वालों को शहीद कर दिया है तो अब विकास दुबे के लिए कौन सी जगह होगी। विकास दुबे का नाता हर राजनीतिक पार्टी से था और वह समय-समय पर हर पार्टी से अपना फायदा लेता रहा।

लेकिन मौजूदा वक्त में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और बताइए ऐसे में उसे किस पार्टी का सहयोग मिल रहा होगा। क्योंकि जब जब भी उसे पुलिस ने गिरफ्तार किया तब तक मंत्रियों विधायकों के फोन पहुंच जाते थे विकास दुबे को छोड़ दीजिए। और फिर विकास दुबे को छोड़ दिया जाता था। अगर उस वक्त ही इस अपराधी पर कड़ी कार्यवाही की जाती तो आज पुलिस के 8 सिपाही शहीद नहीं हुए होते

वरिष्ठ पत्रकार पंकज झा ने अपनी रिपोर्ट में विकास दुबे के अपराध पर बड़ा खुलासा किया है कि कैसे उसे भारतीय जनता पार्टी के नेता संकट से विकास दुबे को बचाते थे और फिर विकास दुबे चुनाव आने पर उनके लिए वोट का जुगाड़ करता था। और उसके लिंक बड़े-बड़े नेताओं तक थे। और जाहिर सी बात है कि जब एक अपराधी को सत्ता का भरपूर संरक्षण मिल रहा हो तो उसे फिर किस बात का डर।