यूपी के कानपुर में इतनी बड़ी घटना , लेकिन गोदी मीडिया के एंकर खबर को छोड़िए , ट्वीट भी नहीं कर पाए ,

उत्तर प्रदेश के कानपुर में बिकरु गांव में पुलिस विकास दुबे को पकड़ने जाती है लेकिन जैसे ही पुलिस टीम जाने की तैयारी करती हैं यह जानकारी विकास दुबे को मिल जाती है। पुलिस टीम को रास्ते में जेसीबी लगाकर रोक लिया जाता है और फिर इस घटना में हमारे आठ पुलिसकर्मी शहीद हो जाते हैं। मीडिया में यह खबरें वेब पोर्टल पर कल से लगातार आ रही हैं।

लेकिन जो मुख्यधारा का मीडिया चैनल है उस पर यह खबर प्राइम टाइम नहीं बन सकी। खैर प्राइमटाइम को छोड़िए इस खबर को लेकर ट्वीट भी नहीं कर पाए। जब पलक्कड़ में एक गर्भवती हथनी की अनानास खाने से मृत्यु हुई थी। और गोदी मीडिया ने उससे मल्लपुरम से जोड़ दिया था जो कि एक मुस्लिम बाहुल्य इलाका है।

तो सभी गोदी मीडिया के एंकर एकदम एक्टिवेट हो गए थे मल्लपुरम को लेकर लगातार ट्वीट आ रहे थे। और न्याय की मांग कर रहे थे लेकिन जैसे ही पता चला कि यह मल्लपुरम की घटना नहीं है यह पलक्कड़ की है । फिर यह मामला गोदी मीडिया से बिल्कुल गायब हो गया।

उत्तर प्रदेश के कानपुर में इतनी बड़ी घटना हुई लेकिन सिर्फ एक नॉन स्टॉप न्यूज़ बन कर रह गई इसे मुख्यधारा की मीडिया चैनल में प्राइम टाइम में जगह ना मिल सके। क्या उन पुलिसकर्मियों की तस्वीरें गोदी मीडिया के हेड ऑफिस हो तक नहीं पहुंच पाई जो पूरे देश में उन पुलिसकर्मियों की तस्वीरें वायरल हो रही हैं। लेकिन बात यह भी है कि यह मामला उत्तर प्रदेश का है और उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है।

और उत्तर प्रदेश में इतनी बड़ी घटना पर भी कोई बड़ी कवरेज ना होना। अगर विकास दुबे की जगह कोई और किसी धर्म का होता तो अब तक गोदी मीडिया के एंकर इंसाफ दिलाने में थोड़ी ही कसर छोड़ते । लेकिन सबसे अहम बात तो यह है मुख्यधारा के मीडिया चैनलों के एंकर इस पर जिक्र करने को बिल्कुल तैयार नहीं है ।

लेकिन गोदी मीडिया यह क्यों भूल रहा है कि यूपी पुलिस के 8 पुलिसकर्मी शहीद हुए हैं। कल गोदी मीडिया के हाथ एक बैनर लगा जिसमें विकास दुबे की पत्नी जिला पंचायत का इलेक्शन लड़ रही है ऊपर मुलायम सिंह यादव का फोटो लगा हुआ था । तब मीडिया ने इस खबर को जोरों शोरों से उछाला। सबसे पहले जी न्यूज़ ने पोस्टर को लेकर खबर छापी।

बाद में पता चला कि विकास दुबे के सभी राजनीतिक पार्टियों से संबंध हैं। जब अन्य राजनीतिक दलों की भी विकास दुबे की तस्वीरें आई तब इस खबर पर पर्दा डाल दिया गया। क्योंकि मामला उत्तर प्रदेश से आया था जहां 8 पुलिसकर्मी शहीद हुए थे और उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है। और यूपी के कानपुर की इतनी बड़ी खबर पर गोदी मीडिया के एंकर प्राइम टाइम की खबर को छोड़िए इस खबर पर एक ट्वीट भी नहीं कर पाए।