टीवी चैनल को छोड़कर जमीनी हकीकत मुद्दों को समझने की कोशिश कीजिए , क्योंकि टीवी चैनल महंगाई और बेरोजगारी पर सवाल नहीं कर सकते है

पूरी दुनिया कोरोनावायरस संकट से जूझ रही है हर कोई देश जल्द से जल्द इस बीमारी से निपटने के लिए तरह-तरह के उपाय सोच रहे हैं। वही हमारे देश में कुछ लोग कोरोनावायरस काल में आपदा को अवसर में बदल रहे हैं। लेकिन लॉकडाउन से लेकर अब तक सरकार की कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने की क्या तैयारी है। सोशल मीडिया पर मरीजों को लेकर खबरें लगातार आ रही हैं।

भारत देश का मुख्यधारा का मीडिया चैनल हर रोज अलग-अलग बहस करता है। लेकिन जो जनता के मुद्दे हैं उनसे मुख्यधारा का मीडिया बिल्कुल भटका हुआ है। लगातार महंगाई बढ़ रही है डीजल पेट्रोल के दाम भी लगातार बढ़ रहे हैं देश में पहली बार ऐसा हुआ है कि डीजल पेट्रोल से आगे निकल गया है। जब सरकार सवालों से घिर जाती है तब मुख्यधारा का मीडिया जनता का ध्यान भटकाने के लिए अलग अलग तरीके के कार्यक्रम लेकर आ जाता है।

जो जनता सरकार से सवाल पूछ रही होती है मीडिया के ध्यान भटकाने के बाद जनता उस सवाल को भूल जाती है। देश में लोगों की नौकरियां जा रही हैं लोगों के रोजगार ठप हो रहे हैं । उनका परिवार कैसे चलेगा उनके बच्चे कैसे पढ़ाई करेंगे। बच्चे देश का भविष्य होते हैं। लेकिन कोरोनावायरस काल में बच्चों के भविष्य पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है।

मुख्यधारा की मीडिया चैनल ने पिछले 6 सालों में मौजूदा सरकार की सिर्फ वाहवाही की है। जब नोटबंदी और जीएसटी का फैसला लिया गया था तब भी मुख्यधारा की मीडिया चैनल ने इस की बढ़-चढ़कर तारीफ की थी । और कुछ ने यह भी बताया था कि जो नए नोट आएंगे उस में चिप लगी हुई होगी । और जनता को यह दिलासा दिया गया कि काला धन आएगा लेकिन आज उसी काले धन से मौजूदा सरकार और मुख्यधारा का मीडिया भटक गया है।

कोरोनावायरस काल में हर कोई देश इस बीमारी से जल्द से जल्द निपटने की सोच रहा है। लेकिन कोरोनावायरस काल में पहले तो मध्य प्रदेश में सरकार बनाई गई और उसके बाद जब कोरोनावायरस के चलते हुए बिहार में चुनाव का वक्त आया तो सबसे पहले भारतीय जनता पार्टी ने डिजिटल रैली शुरू कर दी। सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें वायरल भी हुई थी । इन तस्वीरों को लेकर कहा गया था कि जहां ना पहुंचे राशन वहां पहुंचा भाषण।

प्रतिदिन कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ता जा रहा है मामले भी लगातार पड़ रहे हैं। मुख्यधारा का मीडिया चैनल इस पर चर्चा करने को बिल्कुल तैयार नहीं है कि सरकार की कोरोनावायरस को लेकर क्या तैयारियां हैं। पीएम केयर्स फंड में जो लोगों ने पैसा दिया था। उसका क्या हुआ क्या वह पैसा जनता की बीमारी में काम आ रहा है। कोरोनावायरस काल में महंगाई को लगातार बढ़ती जा रही है।

क्योंकि जब भी विपक्ष के प्रवक्ता सरकार पर सवाल मौजूदा स्थिति को लेकर करते हैं। जब मौजूदा जमीनी हकीकत मुद्दों पर विपक्ष के प्रवक्ता सरकार से सवाल करते हैं तो गोदी मीडिया में कुछ बैठे एंकर सरकार का बचाव करते हैं। उन्हें देशद्रोही बता दिया जाता है इसके बाद उन्हें चाइनीज एजेंट तक बता जाता है । मौजूदा सरकार से सवाल करना कोई गुनाह नहीं है।

लेकिन जब तक आप टीवी की चीख-पुकार को छोड़कर जमीनी हकीकत मुद्दों को समझने की कोशिश नहीं करेंगे तब तक आप एक अंधकार में रहेंगे। क्योंकि मीडिया सरकार की लगातार नाकामी या छुपाता जा रहा है। और जब जनता मुद्दों पर आती है तब गोदी मीडिया उनका ध्यान भटका देता है।