बढ़ते कोरोनावायरस काल में लॉकडाउन को अनलॉक से पहले जनता को जागरूक करना जरूरी था , पढ़े पूरा लेख

कोरोनावायरस के मामले अब लगातार देश में बढ़ रहे हैं और इनको काबू करना बहुत जरूरी है। देश में कोरोनावायरस को काबू करने के लिए लॉकडाउन भी लगाया गया। लेकिन लॉकडाउन लगाने में देरी हुई और जो गलतियां हुई उसको अमित शाह ने डिजिटल रैली में कबूल किया। 30 जनवरी को भारत में पहला केस आया था अगर उस समय सरकार इसे रोकने के लिए इंतजाम करती तब कोरोनावायरस संक्रमण इतना नहीं फैलता।

अब वर्तमान समय में भारत में कोरोनावायरस के मामले तीन लाख पहुंचने वाले हैं। प्रतिदिन 10000 कोरोनावायरस के मामले बढ़ रहे हैं और लगातार तेजी पकड़ रहे हैं। जब लॉकडाउन को अनलॉक करने की घोषणा होती है तब लोग यह समझते हैं कि कोरोनावायरस का खतरा टल गया है।

जो लोग शिक्षित हैं कोरोनावायरस से जागरूक हैं वो इस लॉक डाउन को और अनलॉक को भी समझते हैं। लेकिन भारत में जो मजदूर वर्ग है किसान वर्ग है वह इस अनलॉक को यह समझ रहा है कि कोरोनावायरस का खतरा बिल्कुल खत्म हो गया है और अब सब कुछ खुल गया है।

हमारे देश के शहरी क्षेत्रों में लोग कोरोनावायरस के प्रति जागरूक हैं और सावधानियां भी बरत रहे हैं लेकिन कस्बों और गांवों की बात की जाए तो जब से अनलॉक हुआ है तब से उनके मन में एक ही ख्याल है कि अब लॉकडाउन पूरी तरीके से खुल गया है और सब कुछ पहले जैसा हो गया है। सरकार को इन वर्ग के लोगों को जागरूक करने की जरूरत थी

सरकार ने लॉकडाउन को अनलॉक कर दिया लेकिन यह अनलॉक तब किया जब मामले दो लाख से ऊपर थे। यह मामले लगातार बढ़ रहे थे। अनलॉक करने से पहले भारत देश की जनता को जागरूक करना बहुत जरूरी था। गांव गांव कोरोनावायरस से लड़ने के लिए जागरूकता अभियान सरकार को चलाना चाहिए था। क्योंकि जो लोग इस अनलॉक को यह समझ रहे हैं कि बीमारी पूरी तरीके से खत्म हो गई और सब कुछ पहले जैसा हो गया। सरकार को इन्हें जागरूक करने की जरूरत है ।