केरल में हथिनी मामले में , मीडिया और नेताओं ने जमकर मुस्लिमों को टारगेट किया ,पढ़े पूरी खबर

जब केरल में हुए हथिनी मामले की खबर देश में फैली तो लोग इंसाफ के लिए सोशल मीडिया पर ट्रेंड चलने लगा। सोशल मीडिया पर गर्भवती हथनी को इंसाफ दिलाने के लिए सरकार से गुहार लगाने लगे और कड़ी से कड़ी सजा दोषियों को दिलाने की मांग करने लगे। और दोषियों को सजा दिलाने की मांग करना भी चाहिए क्योंकि मामला बेहद दुखद था। सभी भारत वासियों ने इस मुद्दे को इंसाफ दिलाने के लिए जोरों शोरों से उठाया

लेकिन इस मामले पर गोदी मीडिया ने झूठी खबर पेश कर दी। और इस मामले को मल्लपुरम से जोड़ दिया गया। कि यह घटना मल्लपुरम कि नहीं पलक्कड़ की थी मल्लपुरम को गोदी मीडिया ने इसलिए जोड़ा क्योंकि मल्लपुरम एक मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है। और जैसे ही गोदी मीडिया ने इस मामले को मल्लपुरम से जोड़कर झूठी खबर पेश की। वैसे ही सभी बीजेपी नेता सक्रिय हो गए। जबकि यह घटना पलक्कड़ की थी

इस घटना पर मंत्री प्रकाश जावड़ेकर मल्लपुरम को जोड़कर ट्वीट करते हैं।

के बाद इस घटना पर मेनका गांधी भी मल्लपुरम को जोड़कर ट्वीट करती हैं

सभी लोगों के ट्वीट करने के बाद पाकिस्तान से आए देशभक्त तारिक फतेह भी इस मामले पर एनडीटीवी की खबर को संलग्न करके ट्वीट करते हैं ।

पहले एनडीटीवी ने भी अपने आर्टिकल में इस घटना को मल्लपुरम का बताया था लेकिन उसके बाद उस खबर को अपडेट कर दिया गया लेकिन आर्टिकल लिखने वाली शैलजा वर्मा ने बाद में ट्वीट करते हुए अपने बयान में कहा कि हमें इस खबर पर गलत जानकारी मिली थी और सही जानकारी मिलने के बाद हमने इस खबर को अब अपडेट कर दिया है देखिए शैलजा वर्मा का यह ट्वीट

पहले एएनआई ने भी इस खबर को मल्लपुरम से जोड़ दिया था जिसके बाद सभी बीजेपी नेताओं ने मल्लपुरम को लेकर इस मामले को जोरों शोरों से उठाया लेकिन बाद में इसी एएनआई ट्वीट करके यह जानकारी दी कि यह खबर मल्लपुरम की नहीं है बल्कि पलक्कड़ की है देखिए यह ट्वीट

लेकिन उन पत्रकारों का क्या जो इस झूठी खबर को लेकर उन्होंने एक 1 घंटे के प्राइमटाइम कर डालें और मल्लपुरम के अंदर तक घुस गए क्योंकि उन्होंने इस खबर में मुस्लिम एंगल ढूंढ लिया था क्योंकि मल्लपुरम एक मुस्लिम बाहुल्य इलाका है और उन्होंने इसी बहाने मुस्लिमों को जमकर टारगेट किया गया बाद में पता चला कि यह घटना मल्लपुरम की नहीं है बल्कि पलक्कड़ की है तब गोदी मीडिया में यह मामला ठंडा पड़ गया