कोरोनावायरस को काबू करने में मोदी सरकार पूरी तरीके से हुई फेल , ट्विटर पर लोगों ने कहा , अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों

देश में कोरोनावायरस को रोकने में मोदी सरकार पूरी तरीके से फेल हो गई है और इस कोरोनावायरस से मोदी के गुजरात मॉडल की पूरी तरीके से पोल खुल गई है। हालांकि फिर भी भारतीय जनता पार्टी अपना चुनावी प्रचार करने से नहीं रुक पा रही है। अब भारतीय जनता पार्टी को पश्चिम बंगाल की फिक्र लगी हुई है। क्योंकि वहाँ कुछ दिनों बाद वहां इलेक्शन होने वाले हैं

मोदी सरकार लॉक डाउन पर लॉक डाउन लगाती रही। और साथ ही समय-समय पर अपने समर्थकों की जांच करने के लिए थाली ताली बजबाती रही । और इस थाली ताली वाले प्रोग्राम पर गोदी मीडिया ने भरपूर प्रशंसा की। उसके बाद समय-समय पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने निश्चित समय पर आकर राष्ट्र को संबोधित करते गए क्योंकि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पसंद है।

एक दिन हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता को सैनिक बना लिया और हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश की जनता को चुनाव के वक्त चौकीदार बना चुके हैं। हमारी देश की जनता का माइंड इतना वाश हो चुका है । जो भक्त लोग हैं ना वह कुछ भी बनने को तैयार हैं। क्योंकि उनकी आंखों पर धर्म का चश्मा चढ़ा हुआ है और जिसकी वजह से उन्हें अच्छाई और बुराई का फर्क नहीं दिखता।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता को आत्मनिर्भर बना दिया । लेकिन प्रधानमंत्री जी देश की जनता पहले से ही आत्मनिर्भर थी यह पैदल ही चल कर अपने गांव लौट रहे थे इन्हें आप को आत्मनिर्भर बनाने की कोई जरूरत नहीं थी। आपको तो कोरोनावायरस से लड़ने के लिए राज्य सरकारों के लिए मदद मुहैया करानी थी और जब देश में कोरोना वायरस बढ़ रहा था उस वक्त आपको राज्य सरकारों की सलाह लेकर देश में रोकथाम करनी थी।

अब कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों का आंकड़ा दो लाख को छूने वाला है। लेकिन अब 8 तारीख के बाद आप कहीं पर भी जा सकते हैं और मार्केट में खुलेंगे दुकानें भी खुलेंगे। क्या सोचिए कि इतने लॉक डाउन पर यह कोरोनावायरस संक्रमित मरीज 2 लाख को छूने वाले हैं। लेकिन अगर ऐसे हालातों में छूट दी जाएगी तो यह आंकड़े कहां जा सकते हैं इसका अंदाजा कोई भी नहीं लगा सकता।

मोदी सरकार चार बार लॉक डाउन की घोषणा की और चारों लॉक डाउन बिल्कुल फेल साबित हुए ना तो इनमें कोरोनावायरस मरीजों की संख्या रोक पाए। बल्कि इन कोरोनावायरस मरीजों में ऐसे ऐसे किस्से सामने आए। जहां डॉक्टर के पास जरूरी सामान नहीं है। मरीजों के लिए सुविधाएं नहीं हैं क्वॉरेंटाइन सेंटर की हालत बद से बदतर हो रही थी। मजदूर अपने घर नहीं पहुंच पा रहा है। भूख से लोग तड़प रहे हैं। इतना सब कुछ होने के बावजूद भी भारतीय जनता पार्टी 6 साल बेमिसाल का जश्न मना रही है। और अपनी उपलब्धियां गिना रही है।

और और इनकी उपलब्धियां कौन-कौन सी हैं ऐसे तीन तलाक। क्योंकि इन्हें मुस्लिमों की बहुत चिंता है। लेकिन हकीकत तो यह है इस साल 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक फैसला लिया नोटबंदी का। और देश की जनता को यह विश्वास दिलाया गया कि इस नोट बंदी से काला धन आएगा। और इस काले धन को लेकर बड़े-बड़े बाबाओं धर्मगुरुओं ने न्यूज़ चैनल के कार्यक्रमों में चर्चा की। लेकिन ना जाने वो काला धन कौन से हवाई जहाज से आ रहा था कि वह अब तक भारत नहीं पहुंच पाया है। नोटबंदी में लोगों ने जाने गवाई । और इसी नोटबंदी की वजह से हमारी अर्थव्यवस्था की गाड़ी लटकती हुई बिल्कुल नीचे आ गई।

और इनकी 6 सालों में सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि यह देश का भाईचारा बिल्कुल खा गए। जो हमारे देश में नारा था हिंदू मुस्लिम सिख इसाई आपस में है भाई भाई। अपने बिल्कुल खत्म कर दिया समाज को दो हिस्सों में बांट दिया। सबसे बड़ी उपलब्धि तो यही है और ऐसी इस उपलब्धि से भक्तों में खुशी का माहौल है। युवा हमारा नौकरी के लिए परेशान था और उसको पकोड़े तलने की सलाह दी गई लेकिन फिर भी देश की जनता ऐसी बयानबाजी पर खामोश रही।

लेकिन अब भारत में कोरोनावायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और यह संख्या तेजी से बढ़ रही है। और दोस्तों हमें आप खुद ही संभल कर रहना पड़ेगा हमें खुद ही इस कोरोनावायरस की लड़ाई लड़नी पड़ेगी। क्योंकि हमारी केंद्र सरकार कोरोनावायरस को काबू करने में बिल्कुल फेल साबित हुई। सोशल डिस्टेंस रखनी पड़ेगी। बाहर निकलते वक्त मास्क का प्रयोग करना पड़ेगा। समय-समय पर हाथ धोने पड़ेंगे। क्योंकि अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों