फिर फंसे अर्णब गोस्वामी , मामले को उकसाने के आरोप में ,अर्णब गोस्वामी के खिलाफ , दिया दोवारा जांच करने का आदेश , पढ़े पूरी खबर

रिपब्लिक टीवी चैनल के पत्रकार अर्नब गोस्वामी पर पहले ही पालघर लिंचिंग मामले में एफआईआर हो चुकी है। लेकिन अर्णब गोस्वामी के खिलाफ अब अन्वय नाइक मामले में दोबारा जांच की जाएगी। क्योंकि अन्वय नाइक मामले में रिपब्लिक टीवी के पत्रकार अर्नब गोस्वामी पर मामले को उकसाने का आरोप लगा था । लेकिन उनकी बेटी अदन्या नाइक ने इस मामले की दोबारा जांच करने की गुहार लगाई। और रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्णब गोस्वामी और अन्य लोगों के खिलाफ जांच करने का अनुरोध किया।

आपको बताते हैं क्या है अन्वय नाइक मामला। अन्वय नाइक एक इंटीरियर डिजाइनिंग की कंपनी के प्रबंधक व निदेशक थे। और यह अन्वय नाइक मामला साल 2008 का है। और अन्वय नाइक की मां इस कंपनी की बोर्ड निदेशक भी थी। आपको बता दें साल 2018 में अन्वय नाइक और उनकी मां ने आत्महत्या कर ली। और इन दोनों मां बेटों के शव अपने ही बंगले में मिले। और यह बंगला रायगढ़ जिले के अलीबाग में था।

जब इस मामले की जांच हुई तो जांच में पाया गया ।कि इन मां बेटों की आत्महत्या को उकसाने का रिपब्लिक टीवी चैनल के संपादक अर्णब गोस्वामी व अन्य लोगों पर लगा था। और बाद में जब पुलिस ने छानबीन की। और इन लोगों पर कार्रवाई करने की कोशिश की। लेकिन कुछ दिनों बाद ही स्थानीय पुलिस ने इस मामले को बंद कर दिया और अपने जवाब में कह दिया कि इसके खिलाफ कोई ठोस सबूत नहीं मिल पाए।

इसके बाद अन्वय नाइक की बेटी ने दोबारा जांच करने का अनुरोध किया तब उन्होंने शिकायत की थी पिता ने 83 लाख रुपए अर्नब गोस्वामी द्वारा चुकाए गए थे उसकी कोई जांच नहीं हुई थी जिसके बाद पिता ने यह कदम उठाया था। बेटी की शिकायत के बाद अनिल देशमुख ने यह ट्वीट किया। ट्वीट में कहा गया कि अब इस मामले की जांच सीआईडी अपने हिसाब से करेगी। देखिए अनिल देशमुख का यह ट्वीट