कोरोना वायरस बीमारी से खुल गई पीएम की पोल , लेकिन फिर भी मीडिया बढ़ाती रही हवा हवाई लोकप्रियता , पढ़े पूरी खबर

जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री बने तब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हवाई दौरे बहुत ज्यादा ही किए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोई ऐसा देश ही छोड़ा होगा जिस देश में यात्रा नहीं की होगी हालांकि जब पुलवामा में 40 जवान शहीद हुए थे तभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश यात्रा पर थे । और मस्ती कर रहे थे। कि हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को भीड़ वाले इवेंट पसंद है। रेलिया पसंद है। और कुछ भी हो जाए लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाषण देना नहीं छोड़ते। लेकिन जब से दुनिया में कोरोना वायरस फैला है तब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमारे देश में ही रह रहे हैं और हमारे बीच रहकर ही काम कर रहे हैं।नोटबंदी के समय ये लाइने लगी थी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में कई बड़े फैसले लिए जिसमें सबसे बड़ा फैसला था नोटबंदी। भारत की जनता आज भी नोटबंदी के फायदे नहीं जान पाई है लेकिन फिर भी कुछ अंध भक्त सोशल मीडिया पर नोट बंदी का फायदा आज भी गिना रहे हैं। जब नोट बंदी का ऐलान हुआ तब बड़ी बड़ी बातें कहीं नहीं थी कि नोटबंदी से काला धन आएगा । और जो नए नोट आएंगे उनमें चिप होगी और यह वाली बात किसी और ने नहीं मीडिया नहीं जनता को बताई थी गुमराह किया था लेकिन ऐसा कुछ नहीं था।

बल्कि हकीकत तो यह है कि नोटबंदी का फायदा आज तक भारत की जनता नहीं जान पाई है कि उसका फायदा किधर होकर निकल गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 8 बजे नोटबंदी की घोषणा कर कर चले गए लेकिन उन्होंने यह नहीं सोचा कि जब नए नोट ही नहीं आए तब जनता क्या खर्च करेगी। नोटबंदी की लाइनों में लोगों के साथ क्या यह सब जानते ही हैं उसे बताने की जरूरत नहीं। लेकिन फिर भी आज भी सोशल मीडिया पर कुछ अंध भक्त नोट बंदी के फायदे गिना रहे हैं।

हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बड़े-बड़े इवेंट करना बहुत पसंद है । 1000 करोड़ में हाउडी मोदी कार्यक्रम हुआ बड़ी-बड़ी बातें इस कार्यक्रम में कही गई और इस कार्यक्रम में यह भी कहा गया था कि भारत में सब कुछ ठीक-ठाक है। यह क्यों ठीक-ठाक है क्योंकि भारतीय मुख्यधारा की मीडिया ने जमीनी हकीकत के मुद्दे बिल्कुल दफन कर दिए थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वाहवाही में लगे हुए थे। अर्थव्यवस्था लगातार गिरती रही लेकिन कभी उन्होंने अर्थव्यवस्था पर सवाल नहीं किया बल्कि उन्होंने 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बनाने की बात कर दी अब कैसे बनती हमें नहीं मालूम।

कभी किसी ने अर्थव्यवस्था पर सवाल भी किया तो भक्तों ने पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था से तुलना कर दी कि आप पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को देखिए। लेकिन इन्हें कभी भी अर्थव्यवस्था की चिंता नहीं हुई और ना ही किसी ने सवाल किया लेकिन आज जब कोरोना वायरस संकट के दौर से भारत गुजर रहा है तब इन्हें अर्थव्यवस्था दिख रही है क्योंकि आप हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में रह रहे हैं।

जिस भारत को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेशों में बड़ी-बड़ी बातें कही थी आज जब देश में कोरोनावायरस फैल रहा है तब हकीकत सामने आ रही है कि जो गरीब मजदूर हैं उनका कोई नहीं है चलने दो जैसे चल रहे हैं खुद घर चल कर पैदल पहुंच जाएंगे। जब भारत में कोरोनावायरस फैल रहा था तब अस्पतालों में डॉक्टरों उसके पास जरूरी साधन के सामान नहीं थे। और हमारे देश के गरीब मजदूर पैदल चल चल कर अपने घर पहुंच रहे हैं।

जो गरीब मजदूरों की बात आई तो उन्हें आत्मनिर्भर बना दिया गया अब जब आत्मनिर्भर हो तो पैदल चलते रहो घर पहुंचे जाओगे कभी ना कभी। जो राहत पैकेज आया था उसका भी कुछ अता पता नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने शासनकाल में नोटबंदी नागरिकता संशोधन कानून धारा 370 यह फैसले लिए थे और इसका गोदी मीडिया ने जमकर वाहवाही की और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता बढ़ाने का काम किया लेकिन हकीकत तो यह है तो उस तो गोदी मीडिया ने आज तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश सवाल तो नहीं किया लेकिन जो भी नियम लागू किया उसकी तारीफ ही करते रहें जो लोगों को परेशानी आई उसके बारे में कभी गोदी मीडिया ने सोचा ही नहीं।

लेकिन आज देश की हकीकत आप सब लोगों के सामने हैं भारत के जो गांव हैं उनमें स्वास्थ्य व्यवस्था बिल्कुल चरमराई हुई है अगर यहां गांव में कोरोनावायरस फैल धीरे-धीरे फैल रहा है और और यह बहुत चिंता वाली बात है। भारत में जब कोरोनावायरस फैला तब डॉक्टर के पास तैयारी तो कुछ भी नहीं लेकिन फिर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने थाली ताली मोमबत्ती सब बजवा डालीं। लेकिन इतने पर भी गोदी मीडिया कह रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता बढ़ रही है