भारत में कोरोनावायरस के बढ़ते मामले , और गोदी मीडिया के पत्रकारों की पत्रकारिता , पढ़ें पूरी खबर

भारत देश में कोना वायरस के मामलों की संख्या 1 लाख 15 हज़ार से पार कर चुकी है। तो ऐसे माहौल में मुख्यधारा की मीडिया का यह अधिकार बनता है कि वह भारत की जनता में कोरोनावायरस जैसी खतरनाक बीमारी से बचने के लिए जागरूक करें। लेकिन जनता को जागरूक करने की बजाय यह गोदी मीडिया के पत्रकार जनता को दो फाड़ कर रहे है। और इस पत्रकार ने कभी गरीब मजदूरों को लेकर सरकार से कोई सवाल नहीं किया बल्कि सरकार की वाहवाही की । और आप ट्वीट के जरिए देखिए यह पत्रकार इस तरीके की खबरें अपने प्राइमटाइम में चला रहा है।

इसके बाद मीडिया में कई तरीके के जिहाद आए और उन पत्रकारों पर जिहाद को लेकर कार्रवाई भी की लेकिन अब यह पत्रकार कथा जिहाद ले आया यानी कि यह किसी भी काम में जिहाद को नहीं छोड़ने वाले हैं। और ऐसी कार्यक्रम करके जिहाद कथा बताकर जनता को बेवकूफ बनाया जा रहा है। उनका माइंड वाश किया जा रहा है। पता नहीं यह पत्रकार है या किसी धर्म का ठेकेदार। और कोरोनावायरस के चलते हुए इस तरीके की खबरें दिखा कर यह पत्रकार लगातार देश की जनता को गुमराह कर रहा है। यह वीडियो बहुत पुराना है और यूट्यूब पर मौजूद है कोरोनावायरस के चलते हुए इन पर बहस करने से क्या फायदा है।

व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी पर एक खबर आई थी एक कट्टे पर लिखा हुआ था रमजान गिफ्ट। और इस फोटो को भारतीय जनता पार्टी के नेता राजा सिंह ने शेयर करते हुए कहा था। कि मुसलमानों को यह रमजान में फ्री दिया जा रहा है। लेकिन बाद में अल्ट न्यूज़ ने इस खबर के बारे में पड़ताल की तो यह खबर झूठी पाई गई लेकिन इस झूठी खबर पर ही इस पत्रकार ने पूरा कार्यक्रम कर डाला।

अभी बिहार की मस्जिद को लेकर एक सोशल मीडिया पर खबर फैली थी कि बिहार में मस्जिद की नींव मजबूत करने के लिए रोहित नाम के लड़के की कुर्बानी दी गई थी लेकिन बाद में उस खबर को अल्ट न्यूज़ और कई न्यूज़ कंपनी ने पड़ताल करने के बाद उस खबर को झूठा साबित किया था। और वह खबर झूठी साबित हुई थी। लेकिन उसकी मौत तालाब में डूबने से हुई थी। लेकिन फिर भी इस पत्रकार ने इस खबर को झूठा प्रोपगैंडा करके नफरत फैलाई । देखिए यह ट्वीट।

और इस पत्रकार की खबरों में झूठ और प्रोपेगेंडा का गट्ठर बना हुआ है। और यह पत्रकार अपने न्यूज़ चैनल के अलावा अपने ट्विटर अकाउंट पर भी नफरत फैलाने का काम करता है। अभी कुछ दिन पहले इस पत्रकार ने जून के रंगों पर बेहूदा ट्वीट किया था जिसमें उसने कहा था की ग्रीन जून को रेड जोन माना जाएगा और नारंगी जून को ग्रीन जोन माना जाएगा। के बाद यह पत्रकार अपने ट्वीट के जरिए एक संतरे का फोटो अपलोड करता है और यह कहता है कि काहे तुम्हारे रंग पर गुमान करते हो अंदर से तो तुम भगवा ही हो। देखिए इस पत्रकार का यह ट्वीट

देश में कोरोनावायरस का संकट चल रहा है आज मामले लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं इस समय भारत देश की जनता को एकजुट होकर इस वायरस से लड़ने की जरूरत है। आप और देशों को देखिए वहां की मीडिया है जनता को जागरूक कर रही हैं और कोरोनावायरस को काबू में किया जा रहा है लेकिन हमारे देश में कोरोनावायरस के खतरों को लेकर इस पत्रकार ने और तमाम गोदी मीडिया के चैनलों में कोई चर्चा नहीं है।