अमेरिकी एजेंसी से आया बड़ा बयान , कि मुस्लिम प्रदर्शनकारियों को जल्द से जल्द , पढ़े ख़बर

सफूरा जरगर को कोरोनावायरस महामारी चलते हुए उन्हें दिल्ली पुलिस गिरफ्तार कर लेती है और तिहाड़ जेल भेज देती है। वह इस समय गर्भवती हैं लेकिन बीजेपी आईटी सेल इस महिला के खिलाफ इतनी भद्दी टिप्पणियां सोशल मीडिया पर पोस्ट करता है। वो पोस्ट आपको दिखाई भी नहीं जा सकती है । बीजेपी आईटी सेल कई तरीके के प्रोपेगेंडा चलाता है। और इस महिला को टारगेट करता है।

सफूरा जरगर ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन किया था । और इन्होंने दिल्ली में शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया। हालांकि दिल्ली पुलिस ने उनके साथ जो बर्ताव किया वह मानवता को शर्मसार करने वाला था। अजीब कानून था कि अपने देश के नागरिकों को नागरिकता साबित करनी पड़ रही थी। और दूसरे देशों को बुला बुलाकर नागरिकता देने की बात कही गई थी। अपने देश का जो नागरिक है वह नागरिकता के लायक नहीं है और दूसरे देश का है वह नागरिकता उसे दे दी जाएगी

लेकिन अब रिपोर्ट आई है कि कोरोनावायरस जैसी खतरनाक बीमारी के इस दौर में नागरिकता संशोधन कानून में जो महिला प्रदर्शन कर रही थी जो कि गर्भवती हैं। किसी गर्भवती महिला को इस कोरोनावायरस जैसी महामारी में जेल में नहीं रखा जा सकता। और वह किसी एक धर्म विशेष को निशाना ना बनाएं और सफूरा जरगर को जल्द से जल्द रिहा करें।

अब एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में धार्मिक आजादी को लेकर स्थिति बनी हुई थी वह बेहद गंभीर हुई है और यह भी बताया गया कि भारत में साल 2019 में धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर नियमों का उल्लंघन हुआ है यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है आप देखिए इस ट्वीट को