कविता सुनिए :कैसे लड़ेगा हिंदुस्तान

भारत देश में कोरोनावायरस लगातार बढ़ रहा है जिस मीडिया को इस कोरोनावायरस से बचने के लिए चर्चाएं करनी चाहिए वह मीडिया हिंदू मुस्लिम करने में जुटा हुआ है देश में कोई मामला हो जाता है तो उसमें यह हिंदू-मुस्लिम ऐंगल ढूंढने का काम करते हैं और यह काम बखूबी इन्हें आता है क्योंकि यह काम यह पिछले 6 सालों से कर रहे हैं यह कविता भी इन्हीं गतिविधियों के ऊपर लिखी गई है आपसे निवेदन है कि इस कविता को ध्यान से पढ़ें सुने लोगों तक पहुंचाएं
कविता का शीर्षक है कैसे लड़ेगा हिंदुस्तान इस कविता में हिंदुस्तान को कोरोनावायरस जैसी बीमारी से लड़ने की बात कही गई है।

कैसे लड़ेगा हिंदुस्तान, जब तुम दिन-रात टीवी पर करोगे हिंदू मुसलमान, तो कोरोनावायरस से कैसे लड़ेगा हिंदुस्तान। नेता देखो प्रवक्ता देखो कैसे चला रहे हैं नफरत की जुबान, तो कैसे लड़ेगा हिंदुस्तान।

जिस भारत की संस्कृति है महिला को देना सम्मान ,जिसने इस देश की सेवा में परिवार का दिया बलिदान, उसका एक चाटुकार कर रहा है अपमान ,तो बताइए कैसे लड़ेगा हिंदुस्तान।

टीवी चैनल पर खुली पड़ी है नफरत की दुकान, उसी नफरती टीवी पर भक्तों के टिके हैं कान ,जो दिन रात कर रहे हैं हिंदू मुसलमान, इसी नफरत से जा रही है मासूम की जान ,जब मजदूर पैदल चल रहे थे भूख प्यास से तड़प रहे थे, तो टीवी पर दिखा रहे थे सत्ता की शान ।

नफरती वायरस कोरोनावायरस से तेजी पकड़ रहा है ,कोरोना वायरस से नहीं नफरत से भूखा मर रहा है इंसान। तो बताइए कोरोनावायरस से कैसे लड़ेगा हिंदुस्तान। अस्पतालों में डॉक्टरों के पास नहीं है अपनी जान बचाने का सामान, तो बताइए ऐसे हालात में इस बीमारी से कैसे लड़ेगा हिंदुस्तान।

मजदूर आज भूख से तड़प रहे हैं घर जाने के लिए सड़कों पर आ रहे हैं, लेकिन गोदी मीडिया ने उसमें ढूंढ लिया मुसलमान ,तो बताइए कैसे लड़ेगा हिंदुस्तान। कोरोनावायरस से जूझ रहा है पूरा जहान ,हर देश बचा रहा है अपने देश के इंसानों की जान ,और यहां डॉक्टर को कर रहे हैं पड़ोसी परेशान है, कि तुम कोरोनावायरस लाकर खतरे में डाल दोगे हमारी जान ,डॉक्टर कब तक सहेंगे इन लोगों का अपमान तो बताइए कैसे लड़ेगा यह हिंदुस्तान।

जो विदेश में बैठे हैं नौकरी कर रहे हैं वह फैला रहे हैं नफरत ही बयान लेकिन अब उन्हें हटाना पड़ रहा है ट्विटर से सारा सामान और घटा रहे हैं इस भारत की शान तो बताइए कैसे लड़ेगा यह हिंदुस्तान।