शौचालय में गरीब परिवार को किया गया क्वॉरेंटाइन , विस्तार से पढ़ें पूरी खबर

यह खबर मध्य प्रदेश से आ रही है कि एक गरीब परिवार को क्वॉरेंटाइन सेंटर की जगह उसे शौचालय में क्वॉरेंटाइन किया गया है सोशल मीडिया पर इन तस्वीरों को लेकर मध्य प्रदेश सरकार पर सवाल उठाए जा रहे हैं इस परिवार के व्यक्ति का नाम भैयालाल सहरिया और उसकी पत्नी का नाम भूरी बाई है। और यह दोनों एक शौचालय में क्वॉरेंटाइन है। सोच ही सकते हैं कि देहात में जो शौचालय होते हैं कितने गंदे होते हैं और इसी गंदे शौचालय में यह परिवार रहने को मजबूर है मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिरा कर बीजेपी की सरकार बनाई गई है लेकिन जो सरकार नई बनी है क्या उसको यह दिखाई नहीं देता कि एक परिवार क्वॉरेंटाइन सेंटर की जगह शौचालय में रहने को मजबूर है । आप सोच नहीं सकते कि वह परिवार ही में खाना पक आता है और उसी में खाता है ।

सोशल मीडिया पर यह दावा किया जा रहा है की यह तस्वीरें मध्य प्रदेश के गुना की हैं जहां बीजेपी नेता सिंधिया के लोकसभा क्षेत्र है। जब लोगों को इस इन तस्वीरों के बारे में पता चला तो लोगों ने इन तस्वीरों को लेकर ज्योतिरादित्य सिंधिया और मध्य प्रदेश सरकार पर सवाल खड़े कर दिए वह पूछने लगे क्या गरीब आदमी की जगह शौचालय ही है। आ जा रहा है कि यह तस्वीरें मध्य प्रदेश के गुना के देवीपुरा गांव की हैं जहां एक स्कूल है और उस स्कूल में कोरोनावायरस के संदिग्ध मरीजों को क्वॉरेंटाइन किया जाता है जब इस परिवार को इस स्कूल में क्वॉरेंटाइन किया गया तो इस स्कूल में जगह ना होने के कारण इस परिवार को शौचालय में कोरेंटिन कर दिया गया।

कांग्रेस पार्टी ने अपने टि्वटर हैंडल से भारतीय जनता पार्टी पर इन तस्वीरों को लेकर सवाल किया है कि जो बात-बात पर सड़क पर उतर जाते थे आज वह जनता पर ध्यान क्यों नहीं दे रहे हैं यह देखिए मध्यप्रदेश कांग्रेस का यह ट्वीट

इंडिया टुडे नेटवर्क के आज तक चैनल की रिपोर्ट के अनुसार ‘ किए परिवार शुक्रवार को अपने गांव देवीपुरा लौटा था गांव में घुसते ही गांव वालों ने इस परिवार को रोक लिया और बहस होने लगी गांव वालों ने हमसे कहा कि जब तक आप कोरोना वायरस की जांच करा कर नहीं आएंगे तब तक गांव में आप नहीं रह सकते तब तक आप कहीं अलग-थलग रह सकते हैं इसके बाद उन्हें प्राइमरी स्कूल में भेज दिया गया। 3 अप्रैल को स्वास्थ्य विभाग की टीम इस परिवार को जांच करने के लिए आती है तो यह शौचालय में पाए जाते हैं स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ही इनकी तस्वीरें खींचकर विभाग को दी थी

जब यह गरीब परिवार का मामला सोशल मीडिया पर तेजी पकड़ने लगा तब इस पर प्रशासन ने प्रतिक्रिया दी इस परिवार में पति पत्नियों में झगड़ा हो गया था उसके बाद पति अपने खाने का सामान उठाकर शौचालय में ले आया और थाली लाकर खाना खाने लगा और उसी वक्त स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच करने के लिए वहां पहुंच गई । और वही स्वास्थ विभाग के अधिकारियों ने उसी वक्त तस्वीरें ले ली थी