मुख्यधारा की मीडिया पर झूठी खबर फैलाने के आरोप में FIR दर्ज

मुख्यधारा की मीडिया चैनल पर शोएब नाम के एक व्यक्ति ने मुकदमा दर्ज कराया है उन्होंने अपने मुकदमे में बताया है कि ज़ी न्यूज़ एबीपी न्यूज़ और तमाम तरीके की मुख्यधारा की मीडिया चैनल तबलीगी जमात को लेकर फर्जी वीडियो प्रसारित कर रहे हैं जो काफी पुराने हैं और उनसे वर्तमान के समय में कोई लेना देना नहीं है यह में खबरें फैला रहे हैं जिनसे दंगे हो सकते है। ये वही पत्रकार हैं जो फिरौती वसूल करने के आरोप में तिहाड़ जेल काट चुके हैं और इन्होंने अपने जीवनकाल में कभी 2000 के नोट में चिप बताई थी इस चिप का इन्होंने अपने डीएनए में विश्लेषण भी किया था और इस चिप के बारे में कई तरीके के उपयोग बताए उन्होंने यह तक दावा किया कि आप जमीन के कितनी गहराई तक अगर पैसा 2000 का नोट गाल दोगे तब भी आपको कोई नहीं बचा पाएगा और वह उसका कनेक्शन सीधा सेटेलाइट से है और आप पकड़ जाएंगे आपको इनकम टैक्स डिपार्टमेंट नोटिस भेज सकता है। आपको बता दें डीएनए एक ऐसा इनका प्राइमटाइम कार्यक्रम है जिसमें अक्सर झूठ की चर्चाएं होती हैं सत्ता की चाटुकार योजनाओं का विश्लेषण होता है सत्ता के गुणगान गाए जाते हैं और विपक्ष को और मुस्लिम को निशाना बनाया जाता है अक्सर हर रोज ऐसे प्रोग्राम प्रसारित किए जाते हैं जिनसे समाज में दूरियां बन रही है जिस तरीके से कोरोनावायरस फैलने से हम लोग सोशल डिस्टेंस बना रहे हैं उसी तरीके से इन लोगों ने जहर फैला फैला कर लोगों और समाज के बीच सोशअभी कल ही की बात है जी न्यूज़ उत्तर प्रदेश के ट्विटर अकाउंट से एक मैसेज ट्वीट होता हैल डिस्टेंस खड़ी कर दी। अभी कल ही की बात है जी न्यूज़ उत्तर प्रदेश के ट्विटर हैंडल से एक मैसेज ट्यूट होता है कि फिरोजाबाद में चार्ट तबलीगी जमात के लोगों को कोरोनावायरस पॉजिटिव पाया गया है जब इन्हें टीम लेने पहुंची तो तबलीगी जमात के लोगों ने इन पर पथराव कर दिया आप ट्वीट को देखिए

स्ट्रीट में यूपी पुलिस फिरोजाबाद पुलिस को मेंशन किया गया जब यूपी पुलिस को इस मैसेज का आभास हुआ तब फिरोजाबाद पुलिस ने इस ट्वीट पर रिट्वीट किया कि आपके द्वारा निर्मित और असत्य खबरें फैलाई जा रही हैं यहां फिरोजाबाद में ना तो कोई टीम आई है और ना ही किसी तरीके का पथराव हुआ है आपसे विनती है कि आप इस ट्वीट को तुरंत डिलीट करें और आगे से ऐसी में और असत्य खबरें ना फैलाएं आप की महान कृपा होगी आप जानते हैं ऐसी भर में और असत्य खबरों से किसको फायदा होता है जिसने मुस्लिमों को टारगेट किया जाता है शायद यह आप अच्छी तरीके से जानते ही होंगे और यही मीडिया पिछले 6 सालों से करता आया है । इन्हीं खबरों के साथ इकट्ठे कर कर शोएब ने बड़े मीडिया चैनल और उनके अंगों पर एफ आई आर दर्ज कराई और इन पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की । आपको बता दें यह वही मीडिया है जिसने तबलीगी जमात का जब मामला सामने आया था तब इन्होंने पुराने वीडियो चलाए थे जिसमें मुस्लिम चम्मच प्याली चाटते दिख रहे हैं वह वीडियो जब पड़ताल की गई तो वीडियो पुराना था उसका वर्तमान के समय से कोई लेना देना नहीं है लेकिन वह वीडियो प्रसारित करने से कुछ राजनीतिक पार्टियों को जरूर फायदा मिलता है संबित पात्रा अक्सर अपने कार्यक्रम में मुस्लिम प्रवक्ताओं को टारगेट करते हैं क्योंकि उन्हें मालूम है कि उनकी जनता उनके साथ है और वह किसी अच्छे बुरे को नहीं पहचानती और यह सबसे बड़े उनका हत्यार बनते हैं।