बड़ी ख़बर : लखनऊ के एयरपोर्ट का भी हो गया निजीकरण , अडानी समूह 2 नवंबर से करेगा इसका संचालन , पढ़े पूरी ख़बर

अडानी

लखनऊ के एयरपोर्ट का भी अब निजीकरण हो गया है। लेकिन निजी करण को लेकर लगातार लोगों ने विरोध किया है आपको बता दें लखनऊ के चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट की जिम्मेदारी अब अडानी समूह पर आ गई है इस एयरपोर्ट की जिम्मेदारी अडानी समूह ने ले ली है। और सबसे बड़ी बात कि अगले आने वाले 50 साल तक यह जिम्मेदारी अडानी समूह पर ही रहेगी। और अडाणी समूह आज से हम दोनों नंबर से इसका संचालन करेगा।

आज से लखनऊ के चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर अदानी समूह एयरपोर्ट के काम कानून को अपने हाथ में लेगा और इस एयरपोर्ट की संचालन की जिम्मेदारी भी लेगा। लेकिन जब अडानी समूह ने इसकी जिम्मेदारी लिंक बड़ी-बड़ी सुविधाओं पर भी चर्चा हुई। और उस पर भी चर्चा होने लगी कि क्या इस समूह पर जल्दी जिम्मेदारी आएगी तो क्या शुल्क को बढ़ाया जाएगा या नहीं। लेकिन यह तो बाद की बात है लेकिन अडाणी समूह अब लखनऊ एयरपोर्ट को अगले आने वाले 50 साल तक संभालेगा।

मोदी सरकार में निजी करण से लेकर लगातार लोगों में नाराजगी है और जी करण को लेकर हमारे सामने ढेरों खबरें आई है। लेकिन जब भी निजीकरण हुआ है तो एक नाम हमारे सामने आ ही जाता है वह है अडानी समूह। जहां-जहां भी नहीं करण की बात होती है वहां अडानी समूह का नाम आ ही जाता है। लेकिन यह सोचने वाली बात है कि जनता भी जी करण से खुश नहीं है। लेकिन फिर भी सरकार में लगातार निजी करण हो रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अगर आप पहले के वीडियो देखेंगे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी निजीकरण के खिलाफ थे लेकिन जब से अब उनकी सरकार आई है तब से लगातार निजीकरण हो रहे हैं। लेकिन अब तो हर रोज निजीकरण की खबरें हमारे सामने आ जाती है जैसे ही भी आ गई कि लखनऊ का एयरपोर्ट अब निजी हाथों में चला गया और इसका संचालन आज से यानी 2 नवंबर से अब अदानी समूह करेगा। और आने वाले अगले 50 साल तक अडाणी समूह इसकी जिम्मेदारी संभालेगा।