गोदी मीडिया की बोखलाहट

देश इस वक्त करोना वायरस संकट के दौर से गुजर रहा है जिस वक्त हम यह पोस्ट लिख रहे हैं उस वक्त कोरोनावायरस के मरीजों की संख्या 20528 है जिसमें 448 आज नए मामले बढ़े हैं अभी तक 653 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। जिस मीडिया का काम होता है लोगों तक सच्चाई पहुंचाना वह मीडिया आजकल झूठ का प्रोपेगंडा कर रही है। जहां इन गोदी मीडिया चैनलों पर कोरोनावायरस से निबटने के लिए एकजुटता से चर्चा होनी चाहिए वहां यह लोग देश में अगर कोई मामला हो जाता है तो पहले तो यह हिंदू-मुस्लिम एंगल देखते हैं फिर बाद में अगर नाकाम होते हैं तो विपक्षी पार्टियों को घेरते है । और इसकी सोशल मीडिया पर ढेरों मिसाइलें मौजूद है

पालघर में जो घटना हुई थी उस गांव की सरपंच चित्रा चौधरी हैं जो भारतीय जनता पार्टी से जुड़ी हुई है जब यह बात गोदी मीडिया में पहुंचती है तब इसकी चर्चा खत्म हो जाती है। लेकिन मीडिया जब इसको हिंदू-मुस्लिम करने में नाकाम रहती हैं । महाराष्ट्र में एनसीपी शिवसेना और कांग्रेस की गठबंधन सरकार है। लेकिन आज रिपब्लिक भारत के एंकर अर्नब गोस्वामी ने सोनिया गांधी को लेकर एक विवादित टिप्पणी की । देखिए यह ट्वीट

इस एंकर की खबर के बाद कांग्रेस पार्टी के नेता इस वीडियो को ट्वीट कर रहे हैं और ट्विटर पर इस पत्रकार को अरेस्ट करने की मांग कर रहे हैं।

जिस मीडिया का काम है देश को बचाना आज देश कोरोनावायरस के संकट से गुजर रहा है। जिन डॉक्टरों को परेशानी हो रही है जिन गरीबों को परेशानी हो रही है भूख से परेशान है इस मीडिया को तो उनकी आवाज उठाना चाहिए और इन मीडिया चैनल पर इस मुद्दे को लेकर कोई चर्चा नहीं होती कोई डिबेट नहीं होती । गुजरात में उड़िया मजदूर को दो बार रोड पर आकर प्रदर्शन करते हैं और घर जाने के लिए मैं अपनी आवाज को सरकार तक पहुंचाते हैं लेकिन इस बात को लेकर मीडिया में कोई ज़िक्र तक नहीं

जब ट्विटर पर अरेस्ट अर्नब गोस्वामी ट्रेंड चलने लगा तो वही आईटी सेल वाले नुमाइंदे यानी ऐसा कहा जाए कि दो रुपये प्रति ट्वीट बिकने वाले भक्त आ जाते हैं । यह गोदी मीडिया सत्ता से सवाल करने की बजाय विपक्ष से सवाल करती है और झूठा प्रोपेगेंडा करके यह सरकार की नाकामियां छुपाती है